DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भुखमरी से जूझते 40 लाख इराकी

इराकी अर्थव्यवस्था में हुए जबरदस्त सुधार और तेल के प्रचुर भंडार होने के बावजूद यहां के 40 लाख लोग भूख की समस्या से जुझ रहे हैं और देश की दो करोड 70 लाख की आबादी में से 40 प्रतिशत लोगों को पेयजल नहीं मिल पा रहा है। संयुक्त राष्ट्र के एक अनुमान के अनुसार इराक की वार्षिक विकास दर सात प्रतिशत के आसपास है और उसका राष्ट्रीय बजट 48 अरब डालर का है। इराक से प्रतिदिन 16 लाख बैरल तेल का निर्यात किया जा रहा है। लेकिन आतंकवाद और जातीय हिंसा के कारण 20 लाख से अधिक लोग विस्थापित हो गए हैं। यही नहीं करीब 40 लाख लोग भूख की समस्या का सामना कर रहे हैं। इराक में संयुक्त राष्ट्र मानवीय कायोर्ं के संयोजक डेविड शीयरर ने बताया कि इराक के 40 लाख लोगों के पास इसकी कोई गांरटी नहीं है कि उनको कल खाना नसीब होगा या नहीं। उन्होंने वर्ष 2008 में दानदाता देशों से इराक के लिए 25 करोड 60 लाख डालर देने का आग्रह भी किया है। संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि विस्थापित होने वालों की संख्या भी वर्ष 2006 की तुलना में दोगुनी हो गई है साथ हीबेरोजगारी दिनोंदिन बढती जा रही है। गत जून से इराक में हिंसा में करीब 60 प्रतिशत की कमी आने का दावा किया गया है। श्री शीयरर ने बताया कि इस दौरान 36 हजार विस्थापितों को उनके घर भेजा गया है। हालांकि उन्होंने कहा कि इराक अभी भी विदेशी सहायता कार्यकर्ताआें के लिए सबसे खतरनाक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भुखमरी से जूझते 40 लाख इराकी