एक नजर - प्रदेश कांग्रेस की सांगठनिक गतिविधियां सुस्त पड़ीं DA Image
16 दिसंबर, 2019|2:34|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदेश कांग्रेस की सांगठनिक गतिविधियां सुस्त पड़ीं

प्रदेश कांग्रेस की गति धीमी पड़ गई है। पार्टी संविधान के नियमों का पालन नहीं हो रहा है। हर तीन महीने पर प्रदेश कार्यकारिणी की अनिवार्य बैठक नहीं हो रही। राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व बिहार प्रभारी दिग्विजय सिंह की पहल पर आरंभ किये गये ‘कांग्रेस चली गांव की ओर’ कार्यक्रम को छोड़ दें तो पूरे प्रदेश में सांगठनिक गतिविधियां सुस्त पड़ गई हैं। राष्ट्रीय प्रभारी एवं वर्तमान बिहार प्रभारी सांसद किशोर चन्द्रदेव को कमान संभाले साढ़े चार महीने हो गये पर उनके नेतृत्व में प्रदेश कांग्रेस का एक भी जुझारू कार्यक्रम अब तक नहीं हो पाया है। प्रदेश कांग्रेस की छह महीने के अन्दर पांच सौ जनसभाएं करने का कार्यक्रम भी ठप है। संगठन को सक्रिय करने के लिए करीब दशक भर बाद प्रदेशस्तरीय प्रतिनिधि सम्मेलन आयोजित करने का आलाकमान का निर्देश भी घोषणाओं में ही रह गया। वरीय नेता अनिल शर्मा के संयोजकत्व में होने वाले ‘राज्यव्यापी जनसभा आयोजन कार्यक्रम’ और प्रदेशस्तरीय प्रतिनिधि सम्मेलन कागजों पर ही रह गया।ड्ढr ड्ढr सर्वदलीय बैठक बुलाएं मनमोहन : शरदड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। जदयू ने महाराष्ट्र की घटना पर गहरी चिन्ता व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह से इस मुद्दे पर सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की है। पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की आपात बैठक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव की अध्यक्षता में पार्टी मुख्यालय में हुई। बैठक में पार्टी ने मुम्बई समेत महाराष्ट्र के अन्य शहरों में उत्तर भारतीय लोगों के साथ हुई हिंसक घटनाओं पर दुख व्यक्त किया। साथ ही केन्द्र की यूपीए सरकार और महाराष्ट्र सरकार पर मूकदर्शक बने रहने का आरोप लगाया।ड्ढr ड्ढr कई नेता लोजपा में शामिलड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। जदयू नेता गिरिजानन्दन पासवान, राजद नेता व वार्ड पार्षद मुकेश कुमार उर्फ कौशल पासवान, माले नेता शैलेश यादव और बसपा नेता जयकिशोर पासवान समेत विभिन्न दलों के नेता बुधवार को लोजपा में शामिल हो गये। केन्द्रीय मंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविलास पासवान ने उन्हें लोजपा की सदस्यता दिलाई।ड्ढr ड्ढr राज्यपाल का पुतला फूंकाड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। सपा ने महाराष्ट्र में बिहारियों पर हमले के मुद्दे को लेकर बुधवार को राज्यपाल आरएस गवई का पुतला फूंका और केद्र सरकार से राज्यपाल को अविलम्ब हटाने की मांग की। सपा विधायक दल के नेता गोपाल अग्रवाल के नेतृत्व में प्रदेश सपा ने स्थानीय आयकर गोलम्बर पर प्रदर्शन किया और कहा कि किसी भी मराठी नेता को बिहार की धरती पर पैर नहीं रखने दिया जाएगा। उन्होंने राष्ट्रपति से मांग की कि वे बिहार दौरे पर आने से पूर्व महाराष्ट्र एवं असम में राष्ट्रपति शासन लगायें। ऐसा नहीं होने पर बिहार की धरती पर राष्ट्रपति का भी विरोध किया जाएगा।ड्ढr गोपाल अग्रवाल ने कहा कि महाराष्ट्र में बिहार एवं यूपी के लोगों पर जुल्म किया जा रहा है और केन्द्र सरकार चुप बैठी है। यहां तक कि महाराष्ट्र निवासी सूबे के राज्यपाल आरएस गवई भी चुप हैं। यह राष्ट्रीय शर्म की बात है। देश की अखण्डता को बिगाड़ने वाले आराम से देश विरोधी कार्य कर रहे हैं और कांग्रेस शासित केन्द्र व महाराष्ट्र सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी हुई है। देशवासियों को धोखा देने के लिए देशद्रोहियों पर एफआईआर करने का बहाना बनाया जा रहा है। राज्यपाल का पुतला फूंकने वालों में वरीय नेता रामदेव यादव, हरेन्द्रनाथ यादव, मो. खुर्शीद आलम, जयप्रकाश यादव, तारकेश्वर पासवान, कमलकान्त कुमार, मनोज यादव, आलोक कुमार, मदनमोहन श्रीवास्तव, नैयर हुसैन समेत कई नेता व कार्यकर्ता शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एक नजर