अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो माह से हवा में हाथ पांव मार रही पुलिस

अपराध पर काफी हद तक काबू पाने का दावा करने वाली पटना पुलिस के लिए फरवरी और मार्च के कई आपराधिक मामले अबतक चुनौती बने हुए हैं। इन दो माह में लूट की एक और हत्या के दो ऐसे मामले हुए जिनकी तह तक पहुंचना पुलिस के बूते की बात नहीं लग रही। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि ऐसे मामले रूपी भूलभुलैया में पुलिस की अनुसंधान दिशा भटक गई है। अब सवाल यह उठने लगा है कि चुनाव के बोझ के कारण ऐसे मामलों के अनुसंधान पर प्रभाव पड़ रहा है या पुलिस की जांच पर इसे अंजाम देने वाले अपराधियों का शातिराना अंदाज भारी पड़ रहा है। हालांकि सीनियर एसपी आर मलर विलि इस सवाल से इतेफाक नहीं रखते हुए कहती हैं कि चुनावी कार्य के साथ पुलिस अपना रूटीन वर्क भी कर रही है।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि जल्द ही इसके नतीजे सामने आऐंगे। बीते दो माह में राजधानी में घटित कुछ ऐसे मामले हैं जिनके पीछे के कारण आज भी रहस्यमय है। ताजा मामला 20 मार्च को विद्युत विभाग के सेवानिवृत संयुक्त सचिव व इांीनियर 71 वर्षीय मिथिलेश कुमार की दिनदहाड़े हुई हत्या के कारणों पर से अबतक पर्दा नहीं हट सका है। घटना के बारह दिन बाद भी पुलिस के हाथ हत्यारों के गिरबां तक पहुंचने के बजाए हवा में ही तैर रहे हैं। उनकी हत्या अलसुबह तब हुई जब वह जगतनारायण रोड में देव अपार्टमेंट स्थित अपने फ्लैट से पार्क रोड स्थित अपने खाली मकान में बत्ती बुझाने आए थे। इस मामले में मृतक के परिानों ने एक कपड़ा दुकान मालिक पर आशंका प्रकट की थी जिसने मकान के आगे की जमीन पर कब्जा कर दुकान खोल रखी है। पर पुलिस सिर्फ शक की बुनियाद पर किसी को गिरफ्तार नहीं करना चाहती।ड्ढr ड्ढr थाना प्रभारी जयनाथ सिंह कहते हैं कि इस मामले में अज्ञात हत्यारों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज हुई। पुलिस उन हत्यारों की शिनाख्त में लगी है। इसके पूर्व बीते 12 फरवरी को कदमकुआं थाना क्षेत्र में बहादुर पुर ओवरब्रीज पर इंटर के छात्र सगे भाई रविरांन व शाशिरांन की लाश मिली थी। इन दोनों की भी किसी ने जहर देकर हत्या कर दी थी। इनके हत्यारों का भी कोई सुराग पुलिस को आज तक नहीं मिल सका। 16 फरवरी को एक्ाीविशन रोड में रौशन ब्रदर्श ट्रेडिंग कंपनी के दिनदहाड़े लूटे गए 2.81 लाख रुपयों का भी सुराग आज तक नहीं मिल सका।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो माह से हवा में हाथ पांव मार रही पुलिस