अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर गतिविधि पर खुफिया एजेंसियों की नजर

लोकसभा के चुनावी दौरों के दौरान वीवीआईपी नेताओं पर आतंकी खतरों का साया भी होगा। केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने इस बाबत आगाह किया है। बिहार में भी इस खतर को नजरंदाज नहीं किया जा सकता। खासकर नेपाल और बांग्लादेश की निकटतवर्ती सीमाओं के मद्देनजर सुरक्षा एजेंसियों को आशंका यह आशंका अधिक सता रही है। बिहार में वीवीआईपी नेताओं का दौरा शुरू हो चुका है। राहुल गांधी सरीखे नेताओं ने तो बिहार में चुनावी अभियान भी शुरू कर दिया है। केन्द्रीय खुफिया एजेंसियां पहले से भी आगाह करती रही हैं कि राहुल पर खतरा है। ्र आगे भी लालकृष्ण आडवाणी, सोनिया गांधी, अरुण जेटली, राजनाथ सिंह, शत्रुघ्न सिन्हा और सुषमा स्वराज जैसी बड़ी राजनीतिक हस्तियां बिहार में चुनावी दौरे पर आएंगी। खुफिया रिपोर्टों के हवाले से ऐसी सूचनाएं आ रही हैं कि आतंकी संगठन चुनाव के दौरान गड़बड़ी फैलाने और बड़ी राजनीतिक हस्तियों को निशाने पर लेने की फिराक में हैं। वैसे बड़े नेताओं के चुनावी दौर और सभाओं के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर व्यापक स्तर पर रणनीति बनायी जा रही है। बिहार पुलिस और खुफिया विभाग के आला अधिकारी लगातार आईबी और दूसरी केन्द्रीय एजेंसियों के संपर्कड्ढr में हैं।ड्ढr ड्ढr केन्द्रीय और राज्य स्तर की एजेंसियों की तैयारी के मद्देनजर कई बैठकें भी हो चुकी हैं। चुनाव आयोग भी बड़े नेताओं को तय मानदंड के तहत सुरक्षा घेरा उपलब्ध कराने को लेकर गंभीर है। खासकर बिहार में नक्सली गतिविधियों और नेताओं पर मंडराते खतर की आशंका को देखते हुए आयोग ने यह स्पष्ट कर दिया है कि बड़ी राजनीतिक हस्तियों को सुरक्षा मुहैया कराने में ‘येलो बुक’ की गाइड लाइन का पालन होगा। एक्स, वाई, जेड और जेड प्लस श्रेणी के सुरक्षा घेर में आने वाली हस्तियों को चुनाव प्रचार के दौरान तय मानदंड के तहत सुरक्षा मुहैया करायी जाएगी। जेड प्लस श्रेणी के राजनेताओं को बुलेट प्रूफ कारं मुहैया करायी जाएंगी।ड्ढr ड्ढr खुफिया तंत्रों को ऐसी भी सूचना है कि पड़ोसी देशों के रास्ते बिहार में आतंकियों की घुसपैठ की आशंका लगातार बनी हुई है। इसको ध्यान में रखकर बांग्लादेश और नेपाल से सटी बिहार की सीमा पर एसएसबी ने सतर्कता बढ़ा दी है। जवानों को अलर्ट पर रखा गया है। सूत्रों के अनुसार लगातार ऐसी खुफिया सूचनाएं आ रही हैं कि आतंकी बांग्लादेश और नेपाल के रास्ते बिहार में घुसपैठ कर सकते हैं। सूत्रों की मानें तो पिछले दिनों असम में गिरफ्तार हूजी के एक आतंकी से पूछताछ में खुफिया सूत्रों को इस बात के संकेत मिले थे कि बिहार भी उनके निशाने पर है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हर गतिविधि पर खुफिया एजेंसियों की नजर