अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लचर पुलिसिंग,सुस्त थानेदार,कैसे रहें लोग सुरक्षित

शायद ऐसा राजधानी मंे पहली बार हो रहा है कि वारदात थम नहीं रही और पुलिस खुलासा करने में असहाय है। फाइलों में अनसुलझी वारदात का बोझ बढ़ता जा रहा है। आईजी, डीआईजी व एसएसपी कागजी खानापूर्ति में उलझे हुए हैं। कई चरणों में बैठकें हुई लेकिन बदमाशों पर पुलिस हावी नहीं हो सकी। पुराने पुलिस अफसर जहाँ इसे लचर पुलिसिंग का नतीजा बता रहे हैं वहीं कुछ लोगों का कहना है कि फर्जी खुलासा करना पुलिस को महँगा पड़ रहा है।ड्ढr 22 जनवरी को चौक कोतवाली से चंद कदम दूरी पर सराफ राकेश कपूर की हत्या ने पुलिस महकमे की नींद उड़ा दी। घटना के बाद पुलिस ने सुरक्षा के बड़े-बड़े दावे किए लेकिन एक और सराफ सुनील साहू की हत्या कर लूट हो गई। सराफा व्यापारी सड़क पर कई बार उतरे, उन्हंे हर बार आश्वासन देकर ही शान्त कराया गया। लेकिन इन वारदात के बाद भी लूट की कई घटनाएँ हुई जिनका पर्दाफाश पुलिस के लिए चुनौती है। इन सवालों ने यह सवाल जरूर उठा दिया कि जब आईजी, डीआईजी व एसएसपी भी सड़क पर निकल कर मातहतों की सक्रियता भाँप रहे तो ऐसे में आखिर बदमाशों पर शिकंजा क्यों नहीं कस पा रहा? इस सवाल का जवाब किसी अधिकारी के पास संतोषजनक नहीं है। एसएसपी का कहना है कि दस साल में हुई लूट में गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरण तैयार कराया गया है। इसी पर तफ्तीश टिकी हुई है पर हाल की किसी वारदात में वह प्रगति नहीं बता सके। डीआईजी चन्द्रप्रकाश का कहना है कि सभी मामलों में पड़ताल हो रही है। पूर्व डीजीपी एमसी द्विवेदी का कहना है कि कहीं न कहीं कुछ गड़बड़ तो है जो खुलासा नहीं हो पा रहा है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस ठीक से काम करे तो यह सम्भव ही नहीं है कि कुछ घटनाआें में सफलता नहीं मिले। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का तो कहना है कि फर्जी खुलासे की आदत ने ही बदमाशों को बेखौफ कर दिया है। घटना सही खुलती है तो कुछ दिन अपराध जरूर रुकते हैं पर एक भी घटना फर्जी खोली गई तो खामियाजा जनता को ही भुगतना पड़ता है। थानेदार कुर्सी बचाने में जुटे हैं। पुलिसिंग से ज्यादा समय वह अफसरों व राजनेताआें से साठगाँठ में लगा रहे हैं। एक बुजुर्ग नागरिक शत्रुघ्न गुप्ता का कहना है कि एक समय में राजधानी के एसएसपी, डीआईजी व आईजी की हनक से बड़े-बड़े अपराधी काँप जाते थे पर अब सब जुगाड़ के बूते कुर्सी पर टिके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लचर पुलिसिंग,सुस्त थानेदार,कैसे रहें लोग सुरक्षित