अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवगठित नगर पंचायतों के आम चुनाव 20 अप्रैल को

नवगठित नगर पंचायत केसरिया और साहेबगंज सहित राज्य के अन्य शहरी निकायों में विभिन्न कारणों से रिक्त पदों के लिए राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा घोषित चुनाव की तिथि पर राज्य सरकार ने अपनी सहमति दे दी है। नवगठित नगर पंचायतों के आम चुनाव और रिक्त पदों के लिए उप चुनाव अब 20 अप्रैल को ही कराए जाएंगे।ड्ढr ड्ढr चुनाव की अधिसूचना 25 मार्च को जारी होगी। आयोग के सचिव रघुवंश कुमार सिन्हा ने बताया कि राज्य सरकार ने चुनाव के लिए प्रस्तावित तिथि पर अपनी मुहर लगा दी है। सचिव ने बताया कि केसरिया और साहेबगंज दो नगरपंचायतों का गठन किया गया है।ड्ढr ड्ढr केसरिया में 11 तथा साहेबगंज नगर पंचायत में 13 वार्ड होंगे। वहीं शहरीनिकायों में कुल 17 वार्ड पार्षदों के पद विभिन्न कारणों से रिक्त हुए हैं, जिनके लिए उप चुनाव कराया जाएगा। इन पदों के लिए 25 मार्च से 2 अप्रैल तक नामांकन किया जा सकेगा। 3 अप्रैल को स्क्रूटिनी होगी और 5 अप्रैल नाम वापसी की अंतिम तिथि निर्धारित की गयी है।उम्मीदवारों की सूची का प्रकाशन और प्रतीक चिह्नें का आवंटन 5 अप्रैल को ही कर दिया जाएगा। 22 अप्रैल को मतगणना होगी। संघशासित क्षेत्र घोषित हो मुंबई : कांग्रेसड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। प्रदेश कांग्रेस ने महाराष्ट्र में बिहारियों पर हमले के मुद्दे पर कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। मुम्बई को देश की आर्थिक राजधानी बताते हुए उसे भी दिल्ली की तरह संघशासित क्षेत्र घोषित करने की मांग कर डाली है। विधानपरिषद में कांग्रेस के नेता डा. महाचन्द्र प्रसाद सिंह ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राज ठाकरे जैसे क्षेत्रीय भावना उभारने वाले नेताओं को पकड़कर चौराहे पर खड़ा कर जनता के समक्ष छोड़ देना चाहिए।ड्ढr ड्ढr उन्होंने क्षेत्रीय पार्टियों की मान्यता समाप्त करने की मांग करते हुए कहा कि वे शीघ्र ही इस संवेदनशील मुद्दे को लेकर पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी एवं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलेंगे। डा. सिंह ने बिहार के नेताओं नीतीश कुमार, रामविलास पासवान एवं लालू प्रसाद को कागजी बयान देने से बाज आने की अपील करते हुए कहा कि इन नेताओं को मुम्बई में कैंप करना चाहिए। उत्तर भारत के अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों से भी उन्होंने सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल मुम्बई भेजने का आग्रह किया।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि राजठाकरे को जिस फिल्मी अंदाज में गिरफ्तार और रिहा किया गया उससे महाराष्ट्र सरकार की छवि पर आघात पहुंचा है। मुम्बई पूरे देशवासियों की है न कि चंद कायरतापूर्ण कार्रवाई करने वाले राजठाकारे जैसे आधारविहीन नेताओं का। उन्होंने चेतावनी दी कि बिहारियों पर हमले बन्द नहीं हुए और सिरफिरे राजठाकरे पर कार्रवाई नहीं हुई तो नौ करोड़ बिहारियों को संगठित कर उग्र आंदोलन किया जाएगा। सर्वोच्च न्यायालय में भी मुद्दे को ले जाया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नवगठित नगर पंचायतों के आम चुनाव 20 अप्रैल को