DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दांव पर है कई राजनेताआंे की किस्मत

गोपालगंज के पूर्व डीएम जी कृष्णया हत्याकांड और माकपा विधायक अजीत सरकार हत्याकांड मामले में सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा फैसला सुनाए जाने के बाद अब पूर्व मंत्री बृजबिहारी प्रसाद हत्याकांड और जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष व युवा माले नेता चन्द्रशेखर हत्याकांड के फैसलों की बारी है। इन दोनों हत्याकांडों में सुनवाई त्वरित गति से चल रही है और फैसला शीघ्र आने के आसार हैं। इन मामलों पर भी सूबे के लोगों की निगाहें लगी हुई हैं। जिस प्रकार अदालत ने डीएम हत्याकांड और अजीत सरकार हत्याकांड मामले में बाहुबली राजनेताआें को क्रमश: मौत और उम्र कैद की सजा सुनाई है। इन कांडों के दोषी सलाखों के पीछे हैं।ड्ढr ड्ढr इससे जहां लोगों में कानून और अदालत के प्रति विश्वास मजबूत हुआ है, वहीं बाहुबलियों और राजनीति का अपराधीकरण करने वाले नेताआें में खलबली मच गई है। लोगों का यह विश्वास धीरे- धीरे पुख्ता होने लगा है कि हत्यारे और हत्या की राजनीति करने वाले बाहुबली कितने ही दबंग और रसूख वाले क्यों न हों, कानून के हाथ उनके गिरेबान तक अवश्य पहुंच जाएंगे।ड्ढr ड्ढr सीबीआई की विशेष अदालत में चल रहे पूर्व मंत्री बृजबिहारी प्रसाद हत्याकांड मामले के आरोपित लोजपा सासंद सूरजभान सिंह , जदयू विधायक विजय कुमार शुक्ला उर्फ मुन्ना शुक्ला , जदयू विधायक शशि कुमार राय, पूर्व विधायक राजन तिवारी समेत दस अभियुक्त हैं। इनका भी ट्रायल त्वरित गति से चल रहा है और कुछ ही महीनों में फैसला आने की संभावना है। इस मामले में सीबीआई की आेर से अदालत में कुल 62 गवाहों को पेश कर उनकी गवाही करा चुकी है। जिनमें एक दर्जन से भी अधिक गवाह अदालत में अपने बयान से मुकर चुके है। इन्हें होस्टाइल घोषित किया जा चुका है। इस मामले में दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 313 के तहत अदालत सभी अभियुक्तों का बयान दर्ज कर चुकी है। अदालत में यह मामला अब बचाव पक्ष की गवाही पर चल रहा है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इस हत्याकांड की सुनाई प्रतिदिन चल रही है। विदित है कि मेधा घोटाले के मामले में पूर्व मंत्री बृजबिहारी प्रसाद न्यायिक हिरासत के तहत उनका इलाज आईजीआईएमएस में चल रहा था, तभी अपराधियों ने 13 जून 1ो गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी। जे एन यू के छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष चन्द्रशेखर हत्याकांड मामले में भी सीबीआई की गवाही और बहस पूरी हो चुकी है। बचाव पक्ष की आेर से बहस चल रही है। इस पर भी फैसला शीघ्र आने की संभावना है।ड्ढr ड्ढr वैसे पटना सिविल कोर्ट की अदालत में जदयू के सासंद प्रभूनाथ सिंह के खिलाफ चार आपराधिक मामलों, पीरो विधायक सुनील पाडेय के खिलाफ अपहरण का मामला, रेल मंत्री लालू प्रसाद और पूर्व मुख्यमंत्री डा. जगन्नाथ मिश्रा समेत कई बड़े नौकरशाहों के खिलाफ भी करोड़ों रूपए के चारा घोटाले मामले के साथ निगरानी की विशेष अदलत में राजद सांसद अनिरुद्ध प्रसाद उर्फ साधू यादव और पटना के पूर्व डीएम डा. गौतम गोस्वामी समेत कई नौकरशाहों के खिलाफ बाढ़ राहत घोटाले का मामला चल रहा है। इन पर लोगों की निगाहें हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दांव पर है कई राजनेताआंे की किस्मत