DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसईड में पांच वर्षो में तीन लाख करोड़ का हो सकता है निवेशं

पिछले दो साल में विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) से होने वाला निर्यात दो सौ गुना बढ़ गया है। एसईजेड क्षेत्रों में अबतक लगभग डेढ़ लाख लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार प्राप्त हो चुका है जिनमें 61 हजार रोजगार तो नए एसईजेड में प्राप्त हुए हैं। यही नहीं, इस क्षेत्र में बड़े पैमाने पर निवेश भी हो रहा है यह निवेश 70 हजार करोड़ रुपये से भी अधिक का हो चुका है। पर एसईजेड क्षेत्र में इसी कदर निवेश का आना जारी रहे, इससे होने वाले निर्यात में बढ़ोत्तरी हो तथा लोगों को बड़े पैमाने पर रोजगार मिलता रहे, इसके लिए जरूरी है कि सरकार, विशेष रूप से, वित्त मंत्रालय इस क्षेत्र को दी जाने वाली कर छूटों को बरकार रखे तथा संबंधित अधिनियमों में बदलाव न करे। वाणिज्य मंत्रालय के निर्यातोन्मुखी इकाइयों तथा एसईजेड इकाइयों की निर्यात संवर्धन परिषद के महानिदेशक ललित बी सिंघल ने एक विशेष बातचीत में बतलाया कि इनसे संबंधित डेवेलपरों को आशंका है कि अगर इन क्षेत्रों को मिलने वाली कर रियायतों को हटाया गया तो निवेशक अपने हाथ वापस खींच सकते हैं। उन्होंने बताया कि अगले पांच वर्षो में एसईजेड क्षेत्रों में तीन लाख करोड़ रुपये का निवेश होने का अनुमान है तथा इन क्षेत्रों में 20 लाख से अधिक रोजगार सृजन संभव हो सकता है। पर इसके लिए जरूरी है कि यह स्कीम पूरी तरह स्टैबल रहे तथा निरंतरता बरकरार रहे। उन्होंने बताया कि वैसे तो यह योजना वर्ष 2000 में ही प्रारंभ हो गई थी लेकिन 2005 तक इसका रिस्पांस बहुत अच्छा नहीं रहा क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय निवेशक इसे कानूनी जामा पहनाना चाहते थे। 10 फरवरी, 2006 के बाद जब यह कानूनी रूप से प्रभावी हो गया, तभी से इसके प्रति शानदार रिस्पांस देखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि अबतक 43एसईजेड को औपचारिक रूप से मंजूरी मिल चुकी है जिसका अर्थ यह हुआ कि इनके पास जमीन का स्वामित्व है। इनमें से 1ो अधिसूचित भी कर दिया गया है तथा 42 में वास्तविक रूप से संचालन भी शुरू हो गया है।सिंघल ने बताया कि नए एसईजेड में जिन रोजगारों का सृजन हो रहा है उनमें जोर इस बात पर दिया जा रहा है कि संबंधित स्थानीय क्षेत्र का विकास हो तथा स्थानीय लोगों को प्रशिक्षित बनाया जाए।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एसईड में पांच वर्षो में तीन लाख करोड़ का हो सकता है निवेशं