DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाईस्कूल-इंटर के प्रमाणपत्रों में अब छात्र की फोटो नहीं होगी

वर्ष 2008 की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा उर्तीण करने वाले परीक्षार्थियों के प्रमाणपत्र मंे उनकी फोटो नहीं होगी। फोटो प्रमाणपत्रों के बनाने में हो रही गंभीर भूलों के चलते उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद ने 2008 को बोर्ड परीक्षा पास करने वाले परीक्षार्थियों को फोटो रहित प्रमाणपत्र देने का फैसला किया था जिसे शासन ने भी हरी झंडी दिखा दी है। छात्रों को पहले की तरह प्रमाणपत्र और अंकतालिका अलग-अलग मिलेगी।ड्ढr हाईस्कूल और इंटर के फर्जी प्रमाणपत्रों के इस्तेमाल के चलते बोर्ड ने प्रमाणपत्रों पर उर्तीण छात्र-छात्राआें के फोटो लगाने का निर्णय लिया था। पहली बार सन् 2002 में यह योजना पहले कुछ खास जिलों के परीक्षार्थियों के लिए ही शुरू की गई थी। लेकिन बाद में बोर्ड सभी परीक्षार्थियों को फोटो लगा प्रमाणपत्र जारी करने लगा।ड्ढr लेकिन इस प्रक्रिया में खुद बोर्ड से कई गंभीर भूलें होने लगीं। कंप्यूटर की गलती से किसी छात्र के प्रमाण पत्र पर अन्य छात्र की फोटो पाई गई। कई प्रमाणपत्रों पर तो एक ही परीक्षार्थी की फोटो चस्पा हो गई। बोर्ड के पास शिकायतों का ढेर लग गया।ड्ढr इस शिकायतों से आजिज आकर कुछ महीने पहले बोर्ड बैठक कर फोटोयुक्त प्रमाणपत्रों के आचित्य पर लम्बी चर्चा की। अंत में यह तय किया गया कि इस व्यवस्था के फायदे से अधिक नुकसान है। बोर्ड ने परिषदीय परीक्षाआें में फोटोयुक्त प्रमाणपत्र व्यवस्था खत्म करने का प्रस्ताव शासन को भेजा। जिसे अब शासन ने भी हरी झंडी दिखा दी है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हाईस्कूल-इंटर के प्रमाणपत्रों में अब छात्र की फोटो नहीं होगी