अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुलतानपुर को बनाएँगे नरेगा का मॉडल: राहुल

ांग्रेस के सांसद राहुल गांधी ने कहा है कि नरेगा योजना में सुलतानपुर को ‘मॉडल’ बनाना उनका सपना है। शनिवार को विकास भवन में नरेगा कार्यशाला में उन्होंने जन प्रतिनिधियों और अफसरों से कहा कि वे आंध्र प्रदेश जाएँ और योजना की बारीकियाँ देखें। इस कार्यशाला का बसपा के मंत्री, सांसद व विधायकों ने बहिष्कार किया। उनका कहना था कि यह राजनीतिक मंच है। बाद में राहुल अनुसूचित बस्ती दुल्लापुर अचलपुर भी गए। राहुल ने वहाँ आग से पीड़ित हुए लोगों से मुलाकात की और आरोप लगाया कि वह आने वाले थे इसलिए दो दिन पहले ही प्रशासन को इन लोगों की याद आई है।ड्ढr नरेगा के क्रियान्वयन में आने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए आंध्र प्रदेश के प्रमुख सचिव के. राजू के नेतृत्व में तीन सदस्यीय विशेषज्ञ समिति भी कार्यशाला में मौजूद थी। यहाँ राहुल ने कहा कि हमें देखना होगा कि गरीब को उसका हक मिले। के. राजू ने बताया कि आंध्र प्रदेश में नरेगा से सड़कें नहीं बनतीं। नालियाँ, तालाब और नहर की सफाई होती है। मजदूरों के खाते में सीधे पैसा जाता है। हफ्ते व महीने में मजदूरों की बैठक होती है, जिसमें नरेगा के अफसर भी शामिल होते हैं।ड्ढr बैठक में बसपा विधायक व पर्यटन राज्य मंत्री विनोद सिंह, सांसद ताहिर खाँ, विधायक आेपी सिंह, चन्द्र प्रकाश मिश्र मटियारी व भगेलूराम को भी आना था, लेकिन उन्होंने बैठक को राजनीतिक बताया। विनोद सिंह का कहना था कि जिस कार्यशाला में जन प्रतिनिधियों को तवज्जो नहीं दी जाती, उसमें जाने का कोई मतलब नहीं है। बसपा ने कार्यशाला का विरोध किया, लेकिन इसे उपयोगी बताने वाले सपा के एमएलसी शैलेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि यहाँ काफी कुछ सीखने को मिला है। अगर आंध्र प्रदेश की तर्ज पर सुलतानपुर में नरेगा योजना लागू होती है तो इससे पारदर्शिता और गुणवत्ता आएगी। गौरीगंज के ब्लॉक प्रमुख राकेश सिंह ने कार्यशाला कराने के लिए राहुल गांधी को धन्यवाद दिया। कार्यशाला के बाद राहुल ने पंत स्टेडियम में राज्यस्तरीय राजीव गांधी ग्रामीण वॉलीबाल प्रतियोगिता का उद्घाटन भी किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सुलतानपुर को बनाएँगे नरेगा का मॉडल: राहुल