DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरामदेह सफर के लिए साहब ‘कुछ भी’ करेगा

डीआईजी महेन्द्र मोदी सिपाही आकाशवीर के ‘सहायक’ होते हैं। बीएसएफ के अधिकारी जेएस सरन..कुछ घण्टों के लिए मातहत जवान के ‘नौकर’ बनते हैं! यह किसी आपरेशन के लिए नहीं बल्कि वीरता पदक के बदले सिपाही को हासिल एसी टू में मुफ्त सफर की सुविधा के लिए होता है। एक सिपाही की पत्नी की फरियाद पर रेलवे के सतर्कता निदेशालय ने कुछ दिन पहले पड़ताल कराई तो ‘वीरता पदक कार्ड’ के दुरुपयोग का भाण्डा फूट गया। लेकिन रेलवे को तो करोड़ों रुपए का चूना लग ही गया। अब रेलवे बोर्ड इस सुविधा का दुरुपयोग रोकने की नीति तैयार कर रहा है।ड्ढr सुरक्षा एजेंसियों में तैनात जवानों, अधिकारियों को अदम्य साहस के लिए राष्ट्रपति की ओर से गैलेन्ट्री अवार्ड (वीरता पदक) दिया जाता है। ऐसे वीर को रेलवे एसी टू में सहायक से साथ असीमित यात्रा का अधिकार देती है। कई सौ जवानों और इतने ही अफसरों को रेलवे ने यह सुविधा दे रखी है लेकिन उन्हें कार्डो के दुरुपयोग की भनक भी नहीं थी। कुछ दिन पहले मध्य प्रदेश के एक सिपाही की पत्नी ने रेल मंत्रालय को भेजे पत्र में कहा-‘साहब, मेरे पति को जब से गैलेन्ट्री अवार्ड (वीरता पदक) मिला है, तब से पारिवारिक जीवन नष्ट हो गया है! कृपया यह सुविधा वापस ले ली जाए।’ इस खत से रेल अधिकारी भौचक रह गए। सतर्कता निदेशालय को पड़ताल का जिम्मा सौंपा गया। उसमें खुलासा हुआ कि वीरता पदक धारक प्रतिदिन एक से डेढ़ करोड़ रुपए का सफर कर रहे हैं। सवाल यह है कि सुरक्षा एजेंसियों में तैनात इन जवानों को इतनी छुट्टी कैसे मिल रही है? दरअसल, अधिकारी दौरों के दौरान या निजी यात्रा में वीरता पदक प्राप्त सिपाही को साथ ले लेते हैं। रेल में सफर के दौरान ये अधिकारी सिपाही के ‘सहायक’ बन जाते हैं, जिससे उन्हें मुफ्त यात्रा का लाभ मिल जाता है।ड्ढr पड़ताल से जुड़े एक रेल अधिकारी के मुताबिक बिहार के वरिष्ठ अधिकारी एचएन देवा तो कुछ दिन पहले ही इसी आरोप में बंगलूरु में पकड़े जा चुके हैं। 14 फरवरी को ही गैलेन्ट्री पास के दुरुपयोग का मामला भोपाल एक्सप्रेस में पकड़ा गया। यहाँ पुलिस सेवा से सेवानिवृत एसके त्रिपाठी के कार्डपास की स्कैन कॉपी पर आरक्षण कराकर सफर कर रहे एसके शुक्ल व उनके बेटे को जेल जाना पड़ा। इस मामले में एसके त्रिपाठी ने खुद को निदर्ोष बताया है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आरामदेह सफर के लिए साहब ‘कुछ भी’ करेगा