DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

60 हजार से कम आय वालों को मिलेगा लाभ

राज्य में 22 नवम्बर, 07 के बाद परिणय सूत्र में बंधने वाली उन सभी युवतियों को मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत 5000-5000 रुपये मिलेंगे जिनके परिवार की सालाना आय 60 हजार रुपये या उससे कम होगी। विवाह के समय युवती व उसके पति की न्यूनतम उम्र क्रमश: 18 और 21 वर्ष होनी चाहिए। उसके माता-पिता का बिहारवासी होना योजना की अनिवार्य शर्त है। योजना का लाभ उठाने वालों को विवाह के निबंधन के साथ दहेज नहीं देने का शपथ पत्र भी देना होगा।ड्ढr ड्ढr सरकार को गरीब परिवार की कन्या के विवाह के समय आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने वाली योजना की प्रेरणा ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम से मिली। शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राष्ट्रपति प्रतिभा देवीसिंह पाटिल को बताया कि जनता दरबार में बड़ी संख्या में निर्धन परिवारों की महिलाएं अपनी बेटियों के विवाह के लिए आर्थिक मदद मांगने आती थीं जबकि हमारे पास ऐसी कोई योजना थी ही नहीं। अब हमने ऐसी योजना तैयार की है जो बाल विवाह और दहेज प्रथा जैसी सामाजिक कुरीतियों से छुटकारा दिलाने में भी प्रेरक होगी। योजना का कार्यान्वयन डीएम के नियंत्रण में जिला कल्याण पदाधिकारी द्वारा होगा। अंचलाधिकारी (सीओ) द्वारा निर्गत आय प्रमाण पत्र और एसडीओ या बीडीओ द्वारा निर्गत आवासीय प्रमाण पत्र अथवा पासपोर्ट, जमीन के कागजात के साथ आवेदक अपना आवेदन बीडीओ के दफ्तर में जमा करायेगा।ड्ढr ड्ढr कन्या के नाम से भुगतान का चेक अथवा बैंक ड्राफ्ट बीडीओ ही जारी करेंगे। उनके निर्णय के खिलाफ जिला कल्याण पदाधिकारी के पास अपील होगी। जिन आवेदिकाओं के माता-पिता के नाम ग्रामीण विकास विभाग द्वारा प्रकाशित बीपीएल सूची में शामिल होंगे, उन्हें आय अथवा आवास प्रमाण पत्र देने की आवश्यकता नहीं होगी। उन्हें बीपीएल सूची की छायाप्रति ही पेश करनी होगी। विवाह अधिनियमों के तहत वैध पुनर्विवाह के मामलों में यह अनुदान देय होगा। सरकार ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि विधवा विवाह को पुनर्विवाह नहीं माना जायेगा।ड्ढr ड्ढr चेक लेते ही आंखें छलछला गयीं सरिता और प्रमोद कीड्ढr पटना (का.सं.)। सरिता और प्रमोद के चेहरे पर पैसे मिलने की खुशी साफ झलक रही थी। राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के हाथों से चेक लेते इस दम्पति की आंखें छलछला आयीं। इस जोड़े को समाज कल्याण विभाग की आेर से शुरू किए गए मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना का पहला लाभार्थी बनने का पहला मौका मिला। पटना सदर प्रखंड के बांस कोठी, दीघा की रहने वाली सरिता अपने पति प्रमोद कुमार चौधरी के साथ आईं थी। चेक महिला के नाम से दिया गया। श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में बनाए गए मंडप में सजे-धजे बैठे इन जोड़ों को अपनी बारी का इंतजार था। इस योजना के तहत जिले के पांच प्रखंडों के पांच जोड़ों को राष्ट्रपति ने पांच-पांच हजार रुपए का चेक प्रदान कर श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में इस योजना की शुरुआत की। इनके अलावा महुली, पटनासिटी की सुंदरी देवी और शंभु कुमार, हाथीदह, मोकामा की तस्लीमा बेगम और मो. फिरोज, मसौढ़ी प्रखंड के तिनेरी की सुनैना देवी और अजय साव तथा मनेर के टाटा कालोनी की अनिता देवी और संजय चौधरी को भी पांच-पांच हजार रुपए का चेक दिया गया। ये सभी जोड़े आर्थिक रूप से कमजोर तबके से आते हैं, जिनकी वार्षिक आय 60,000 रुपए से कम है। चेक पाने के बाद पेशे से ड्राइवर मो. फिरोज ने बताया कि इस राशि से उसकी कुछ आर्थिक मदद हो जाएगी। उन्होंने बताया कि पैसे से ज्यादा महत्वपूर्ण भारत की राष्ट्रपति के हाथों इसे पाना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 60 हजार से कम आय वालों को मिलेगा लाभ