DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

काश! टेस्ट क्रिकेटर होते उनके पति

प्रथम श्रेणी की क्रिकेट खेले ऐसे बहुत से पूर्व क्रिकेटर हैं, जिनके दिलों में यह टीस रही कि वे अच्छे क्रिकेटर होने के बाद भी कभी टेस्ट क्रिकेट नहीं खेल सके। हालांकि जब क्रिकेट बोर्ड ने कुछ वर्ष पहले पूर्व टेस्ट क्रिकेटरों के साथ उन्हें भी मासिक पेंशन की शुरुआत की तो वे खुशी से फूले नहीं समाए। पर उनकी मृत्यु के बाद उनकी विधवा भी इस टीस के साथ जीने को मजबूर हैं कि काश, उनके पति ने टेस्ट क्रिकेट खेली होती। दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड ने पूर्व क्रिकेटरों के लिए जो पेंशन योजना शुरू की थी उसे पाने वाले पूर्व टेस्ट क्रिकेटर की मृत्यु के बाद उसकी विधवा को यह पंेशन मिल रही है। लेकिन पूर्व प्रथम श्रेणी क्रिकेटर की विधवा को बीसीसीआई पेंशन नहीं दे रहा है। बीसीसीआई की नीति है कि वह टेस्ट क्रिकेटर की विधवा को तो आर्थिक सहायता का जरूरतमंद मानता है, लेकिन प्रथम श्रेणी क्रिकेटर की विधवा को नहीं। इस पर बीसीसीआई के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी प्रो. रत्नाकर शेट्टी ने कहा, टेस्ट क्रिकेटरों और प्रथम श्रेणी के क्रिकेटरों में फर्क तो होता ही है। यह पूछने पर कि जब दोनों पेंशन पा रहे हैं तो इनकी मृत्यु के बाद इनकी विधवा को पेंशन देने में भेदभाव क्यों? इस पर शेट्टी ने कहा, हमें कहीं तो लाइन खींचनी थी, इसलिए तय किया गया कि पूर्व टेस्ट क्रिकेटर की विधवा को ही पेंशन दी जाए। बीसीसीआई के संयुक्त सचिव और पंजाब के पूर्व रणजी खिलाड़ी महेन्द्र पांडव ने कहा, हां, अभी तो प्रथम श्रेणी के पूर्व क्रिकेटर की विधवा के लिए पेंशन नहीं है, लेकिन हम इस पर भविष्य में विचार करेंगे। देश के ज्यादातर पूर्व रणजी क्रिकेटरों को इस तथ्य के बारे में नहीं पता है। वे यही सोचते हैं कि पेंशन की योजना टेस्ट और प्रथम श्रेणी के क्रिकेटरों दोनों के लिए एक समान है। रणजी ट्रॉफी में सबसे अधिक विकेट लेने के रिकॉर्डधारी पर कभी टेस्ट न खेल पाने वाले हरियाणा के राजिंदर गोयल ने कहा, यह तो सही चीज नहीं है। मेरे विचार में तो प्रथम श्रेणी के क्रिकेटरों की विधवा को पेंशन की ज्यादा जरूरत है। बोर्ड को इस बारे में जरूर सोचना चाहिए। रणजी ट्रॉफी में कभी सबसे अधिक रन बनाने वाले पंजाब और हरियाणा के पूर्व क्रिकेटर अमरजीत केपी ने भी गहरा आश्चर्य जताते हुए कहा - यह बहुत ही गलत है। बीसीसीआई को पेंशन के मामले में दोहरी नीति नहीं अपनानी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: काश! टेस्ट क्रिकेटर होते उनके पति