अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैंसर के इलाज में हाइपरथर्मिया तकनीक वरदान

भारत जैसे विकसित देश के लिए कैंसर के इलाज में हाइपरथर्मिया तकनीक वरदान साबित हो सकती है।ड्ढr कैंसर इलाज के लिए नित्य नये-नये प्रयोग किये जा रहे हैं। इसके बाद भी कैंसर के कीटाणु का पूरी तरह से सफाया चुनौती भरा कार्य है। उक्त बातें महावीर कैंसर संस्थान में हाइपरथर्मिया पर आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के अंतिम दिन कैंसर विशेषज्ञ डा. श्याम श्रीवास्तव ने कहीं। वे रविवार को आयोजित सेमिनार में लोगों को संबोधित कर रहे थे। हाइपरथर्मिया तकनीक का सफल प्रयोग करने वाले डाक्टर डेजी ने कहा कि इसके प्रयोग से बहुत हद तक बच्चेदानी कैंसर पीड़ित को लाभ पहुंचाया जा सकता है। इसके अलावा अमेरिका, जापान, इंग्लैंड, नीदरलैंड, जर्मनी सहित 22 देशों के कैंसर विशेषज्ञों ने अपने-अपने विचार व्यक्त किये। संस्थान की कीमोथिरेपी विभागाध्यक्ष डा. मनीषा सिंह ने कहा कि हाइपरथर्मिया से सिर्फ रेडियोथिरेपी में ही लाभ नहीं होगा, बल्कि कीमोथिरेपी में भी इससे रेडियोथिरेपी के बाद लाभ होता है। सम्मेलन को संबोधित करते हुए डा. हेंस क्रिजी ने बताया कि इसके तकनीक के प्रयोग के समय चिकित्सक मशीनों के माध्यम से किस तरह तापक्रम को नियंत्रित कर इलाज कर सकते हैं। प्रख्यात चिकित्सक डाक्टर नागराज व्हीलगो ने सर व नाक के कैंसर में कीमोथिरेपी एवं रेडियोथिरेपी के प्रयोग पर विस्तार से चर्चा की। धन्यवाद ज्ञापन संस्थान के निदेशक डा. जितेन्द्र कुमार सिंह ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कैंसर के इलाज में हाइपरथर्मिया तकनीक वरदान