DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुश्किल से आते हैं सद्गुण व सद्विचार

श्रीराम कथा अमृत वर्षा समारोह में परम पूज्य संत श्री सुधीरजी महाराज ने कहा कि लोगों में सद्गुण व सद्विचार मुश्किल से आते हैं और जल्द ही चले जाते हैं। वहीं दुगरुण व दुर्विचार तेजी से आते हैं और अधिक समय तक लोगों में रहते हैं। आईआेसी, सिपारा से सटे 70 फीट रोड के पास स्थित मैदान में विशाल जनसमूह को संबोधित करते हुए श्रीधाम, अंडिला से पधारे महाराज ने अनेक प्रसंगों के माध्यम से लोगों को अपनी जीवनशैली में सुधार लाने के लिए कई सूत्रों से अवगत कराया।ड्ढr ड्ढr रामवनवास पर प्रवचन देते हुए उन्होंने धन की चर्चा की तथा कहा कि धन, धर्म के साथ आना चाहिए। धन की तीन गति दान, भोग व विनाश होती है। परिवार में रामराज्य संयम से आता है। उस समय लोग विपत्ति के लिए लड़ाई करते थे पर कलयुग में एक भाई दूसरे भाई से संपित्त के लिए संघर्ष करते हैं। समारोह में पुरुषों की अपेक्षा महलाआें की संख्या अधिक थी। बीच-बीच में ‘जय हनुमान गोस्वामी, श्रीराम जय-जय राम, मंगल भवन अमंगल हारि’ के मंत्रोच्चारण से समारोह स्थल गूंज रहा था। पिछले एक सप्ताह से शुरू हुए इस समारोह को सफल बनाने में कृष्णमुरारी सिंह, धर्मदेव राय, सचिन शरण, विमेश्वर राश्, सीताराम सिंह, महेन्द्र सिंह, राजेश कुमार, रंजीत कुमार आदि की भूमिका सराहनीय रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुश्किल से आते हैं सद्गुण व सद्विचार