अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रधान व चाचा को पीटकर मार डाला

राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (नरेगा) अब हिंसा का कारण भी बन रही है। क्षेत्र के कहुआ गाँव में खोदे जा रहे तालाब के विवाद के बाद मंगलवार की रात प्रधान व उनके चाचा की लाठी-डंडों और सरिया से पीटकर हत्या कर दी गई। इस हमले में प्रधान परिवार के तीन लोग घायल भी हो गए। सूचना मिलते ही डीआईजी चंद्र प्रकाश मौके पर पहुँच गए। प्रारंभिक छानबीन में गारंटी योजना का विवाद ही उभर कर आया है। डीआईजी ने लापरवाही बरतने पर कोतवाली के वरिष्ठ उप निरीक्षक को निलंबित कर दिया है। प्रधान के भाई की तहरीर पर गाँव के पाँच लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया है। गाँव में डेढ़ सेक्शन पीएसी व कोतवाली पुलिस गश्त कर रही है।ड्ढr मंगलवार की रात लगभग आठ बजे कहुआ के ग्राम प्रधान अनीस अंसारी साइकिल से सलोन से अपने घर जा रहे थे। गाँव के नजदीक महफूज की परचून की दुकान के पास घात लगाए बैठे हमलावरों ने लाठी-डंडों से प्रधान पर हमला बोल दिया। प्रधान के शोर मचाने पर उनके परिवार के अन्य लोग मौके पर पहँुच गए। दोनों तरफ से हुई मारपीट में ग्राम प्रधान अनीस अंसारी (40), उनके चाचा शरीफ अहमद (55), मुनीस (30), नफीस अहमद, रियाज अहमद गंभीर रूप से घायल हो गए। इन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सलोन ले जाया गया, जहाँ से सभी को जिला चिकित्सालय रिफर कर दिया गया। जिला अस्पताल पहँुचते ही शरीफ अहमद की मौत हो गई। लखनऊ ले जाते समय प्रधान अनीस अंसारी की भी मौत हो गई। दोहरे हत्याकांड के बाद पूरे गाँव में सन्नाटा पसरा हुआ है।ड्ढr घटना की जानकारी मिलने पर डीएम डीएन दुबे, डीआईजी चन्द्र प्रकाश, एसपी मोहित अग्रवाल व अन्य पुलिस अधिकारी जिले की अन्य थानों की पुलिस के साथ मौके पर पहुँचे। डीआईजी ने कहा कि दोषियों को किसी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। मृतक के परिवारीजनों से पूछताछ के बाद डीआईजी ने बताया कि यह विवाद नरेगा में तालाब की खुदाई के कारण हुआ है। गाँव के कुछ लोग तालाब खोदे जाने का विरोध कर रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रधान व चाचा को पीटकर मार डाला