अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वास्थ्य महानिदेशालय के नीचे दबे हैं दर्शन महल के अवशेष

वास्थ्य महानिदेशालय में निकले प्राचीन इमारत के अवशेष गाजीउद्दीन हैदर युग के हैं। राज्य पुरातत्व सर्वेक्षण के अधिकारियों का मानना है कि महानिदेशालय के नीचे वर्ष 1814 से 1827 की अवधि में बने दर्शन महल के अवशेष मौजूद हैं। विभाग ने इसे बगैर किसी छेड़छाड़ के बंद करने की संस्तुति की है।ड्ढr स्वास्थ्य महानिदेशालय में मंगलवार को निर्माण कार्य के दौरान एक सुरंग निकली। इसमें कुछ सीढ़ियाँ व ढाँचा बना हुआ है। निर्माण का जायजा लेने के लिए राज्य पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के अधिकारी बुधवार को महानिदेशालय पहुँचे। दल में उत्खनन एवं अन्वेषण अधिकारी राकेश कुमार श्रीवास्तव व सहायक उत्खनन एवं अन्वेषण अधिकारी डॉ. के के सिंह शामिल थे। अधिकारियों ने बताया कि निर्माण गाजीउद्दीन हैदर युग का है। यह नवाबों के शासन का दौर था। अधिकारियों ने इतिहास के हवाले से बताया कि गाजीउद्दीन युग में दर्शन महल का निर्माण इसी जगह पर हुआ था। यहाँ सभाएँ लगती थीं। पिछली सदी में बारिश की वजह से यह निर्माण ढह गया था। बाद में मिट्टी से पाटकर यहाँ स्वास्थ्य महानिदेशालय का निर्माण कर दिया गया। पुरातत्व विभाग के अधिकारियों ने निर्माण की जाँच के बाद स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. एलबी प्रसाद को रिपोर्ट दी है। विभाग ने जिस स्थल पर यह निर्माण निकला है वहाँ किसी प्रकार की खुदाई न किए जाने की बात कही गई है। अधिकारियों का कहना है कि यदि इस जगह को संरक्षित किया जाएगा तो मुख्य सड़क और महानिदेशालय के मुख्य भवन तक से छेड़छाड़ करनी होगी। ऐसे में सुरंगनुमा जगह को पाटकर यहाँ किसी प्रकार का निर्माण न करने की हिदायत दी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्वास्थ्य महानिदेशालय के नीचे दबे हैं दर्शन महल के अवशेष