अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रधानाचार्य को पता नहीं शिक्षा माफिया ने भरा लिए प्राइवेट फार्म

प्रधानाचार्य को पता नहीं और स्कूल से प्राइवेट फार्म भर गए। इसका खुलासा तब हुआ जब बोर्ड कार्यालय ने प्राइवेट छात्रों को प्रैक्िटकल परीक्षा दिलाने का पत्र भेजा। अपने तरह की इस अनोखी घटना ने अफसरों के होश उड़ा दिए हैं। पहली नजर में इसमें शिक्षा माफिया के शमिल होने की बात कही जा रही है। डीआईआेएस ने मामले की जाँच के आदेश दिए हैं।ड्ढr काकोरी स्थित राजकीय कन्या इण्टर कॉलेज सरोसा-भरोसा की प्रधानाचार्या विमला श्रीवास्तव ने किसी बच्चे का प्राइवेट फार्म नहीं अग्रसारित (भराया) किया। पता नहीं किसने कॉलेज से छात्र-छात्राआें का प्राइवेट फार्म भरा दिया। छात्र-छात्राएँ किस कॉलेज की हैं इसका भी उन्हें पता नहीं है। प्रधानाचार्या को इसकी जानकारी बोर्ड के अपर सचिव के पत्र से हुई जो उन्होंने प्राइवेट छात्रों को प्रैक्िटकल दिलाने के लिए लिखा है। परीक्षक ने भी स्कूल की प्रधानाचार्या को पत्र लिखकर प्राइवेट छात्रों को प्रैक्िटकल परीक्षा के लिए रामकृष्ण विद्यावती इण्टर कॉलेज मौन्दा भेजने को कहा। दोनों पत्रों को देख प्रधानाचार्या के होश उड़ गए। उन्होंने डीआईआेएस से लिखित शिकायत कर कहा है कि किसी बाहरी व्यक्ित ने फर्जीवाड़ा कर प्राइवेट फार्म भराया है। पिछले वर्ष भी इसी तरह फर्जी तरीके से स्कूल से प्राइवेटफार्म भरवाए गए थे। जिससे केवल एक विद्यालय के बच्चे बोर्ड परीक्षा पास करने में सफल हुए थे। इसकी शिकायत भी तत्कालीन डीआईआेएस विकास श्रीवास्तव से की गई थी लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की और मामले को दबा गए। नतीजे में सभी छात्रों को परीक्षा में शामिल होने का मौका मिल गया। इससे शिक्षा माफिया के हौंसले बढ़ गए। लिहाजा फिर से इस स्कूल से प्राइवेट फार्म भर गए। प्रधानाचार्य ने लिखा है कि अगर छात्र-छात्राआें का कोई नुकसान होता है तो इसके लिए वह जिम्मेदार नहीं होंगी। सूत्र बताते हैं कि शहर में छात्रों को प्राइवेट फार्म भराकर पास कराने का एक बड़ा रैकेट काम कर रहा है। उसी रैकेट ने शहर के विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राआें के फार्म इस स्कूल से भरा दिए हैं। इसमें स्कूल के कुछ कर्मचारियों के शामिल होने की आशंका है। डीआईआेएस गणेश कुमार भी कहते हैं कि यह काफी गंभीर मामला है। मामले की जाँच कराई जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रधानाचार्य को पता नहीं शिक्षा माफिया ने भरा लिए प्राइवेट फार्म