अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बदलेगा मैट्रिक के प्रश्न पत्र का पैटर्न

मैट्रिक परीक्षार्थियों के लिए खुशखबरी है। इस बार उन्हें प्रश्नों को देखकर सिर नहीं पकड़ना पड़ेगा। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने छात्रों की सहूलियत के लिए हल्का प्रश्न पूछने का निर्णय लिया है। परीक्षा के दौरान पूरी कड़ाई होगी और इस स्थिति में छात्रों को परेशान न होना पड़े, इसके लिए समिति ने इस प्रकार की योजना तैयार की है।ड्ढr ड्ढr मैट्रिक परीक्षा के लिए प्रश्नों को सेट किए जाने से पहले शिक्षकों को इसके बारे में जानकारी के देने के लिए एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें सभी शिक्षकों को निर्देश दिया गया कि छात्रों की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए हल्के प्रश्नों का सेट तैयार किया जाए। इन्हीं सेटों को परीक्षा में छात्रों को हल करने के लिए दिया जाएगा। समिति ने इस बार प्रश्न पत्र का प्रारूप भी बदलने की पूरी तैयारी कर ली है। इसके तहत प्रश्नांे को तीन भागों में बांटा गया है। प्रथम खंड में वस्तुनिष्ठ, द्वितीय खंड मे लघु उत्तरीय व तीसरे खंड में दीर्घ उत्तरीय प्रश्न छात्रों से पूछे जाएंगे। 100 अंक के पत्र में वस्तुनिष्ठ 20 अंक के, लघु उत्तरीय 40 अंक के व दीर्घ उत्तरीय प्रश्न 40 अंक के पूछे जाएंगे। कम अंक वाले पत्रों में इसी औसत से प्रश्नों को पूछा जाएगा। समिति द्वारा अभी तक वस्तुनिष्ठ प्रश्नों की संख्या कम रहती थी, पर छात्रों की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए इसकी संख्या बढ़ाई जा रही है। उन्होंने कहा कि मैट्रिक परीक्षा के दौरान पूरी व्यवस्था को विकेंद्रीकृत किया गया है। इस संबंध में सचिव ने बताया कि सभी कायरे के लिए अलग-अलग लोगों को जिम्मेवार बनाया गया है, ताकि एक जगह से कोई रिमोट कंट्रोल से व्यवस्था को संचालित न कराए। इससे परीक्षा को स्वच्छ व कदाचारमुक्त ढंग से पूरा कराया जा सकता है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बदलेगा मैट्रिक के प्रश्न पत्र का पैटर्न