अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अगले साल से लागू होगी सेमेस्टर प्रणाली

रांची विवि में वर्ष 200से सेमेस्टर प्रणाली लागू हो जायेगी। इसकी शुरुआत पीजी पाठय़क्रमों से होगी। फिर इसे स्नातक में लागू किया जायेगा। इसका प्रस्ताव मई में एकेडेमिक कौंसिल में रखा जायेगा। यूजीसी ने देश के सभी विश्वविद्यालयों को एक सिलेबस और एक कैलेंडर रखने का निर्देश दिया है, ताकि पूरे देश में समान शिक्षा व्यवस्था हो। इस आलोक में विश्वविद्यालयों ने बदलाव की प्रक्रिया शुरू कर दी है। उक्त बातें वीसी प्रो एए खान ने 22 फरवरी को पीजी अर्थशास्त्र विभाग में झारखंड जर्नल ऑफ इकोनॉमिक्स के लोकार्पण के मौके पर कही। उन्होंने कहा कि शोध जरूरी है। इसके लिए छात्रों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। उच्च शिक्षा निदेशक डॉ अंजनी श्रीवास्तव ने कहा कि 11वीं पंचवर्षीय योजना में कॉलेजों के विकास के लिए अधिक राशि दी जायेगी। अब छात्रों की संख्या के आधार पर ही कॉलेजों को राशि मिलेगी। शिक्षकों पर ज्यादा भार होने के कारण वे शोध के लिए समय नहीं दे पा रहे हैं। प्रयोगशाला, पुस्तकालय व आधारभूत संचरना की उचित व्यवस्था नहीं होने के कारण भी शोध कार्य प्रभावित हो रहे हैं। प्रोवीसी डॉ एसके राय ने कहा कि शोध कार्यो को बढ़ावा देने की जरूरत है। रजिस्ट्रार डॉ एलएन भगत ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर की शोध पत्रिका का प्रकाशन होना चाहिए। इससे पूर्व अतिथियों का स्वागत डॉ आरआरपी सिंह और धन्यवाद प्रो रमेश शरण ने दिया।ड्ढr इकोनॉमिक्स संघ का गठन होगाड्ढr रांची विवि के पीजी अर्थशास्त्र के प्राध्यापक प्रो रमेश शरण ने कहा है कि झारखंड एसोसिएशन ऑफ इकोनॉमिक्स का गठन किया जायेगा। लोकार्पण कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि शोध पत्रिका के अंगले अंक में सभी पीएचडी कार्यो के सारांश का प्रकाशन किया जायेगा। उन्होंने विवि प्रशासन से फंडामेंटल रिसर्च की ओर ध्यान देने का आग्रह किया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अगले साल से लागू होगी सेमेस्टर प्रणाली