अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनार सीमेंट फैक्ट्री में १० साल बाद उत्पादन शुरू

चुनार सीमेंट फैक्टरी में 10 साल बाद उत्पादन शुरू होने के उपरांत जेपी सीमेंट की पहली खेप शनिवार को फैक्टरी से बाहर निकाली गई। इसे लादकर निकले ट्रक को जयप्रकाश एसोसिएट्स लिमिटेड के कार्यकारी अध्यक्ष मनोज गौड़ ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस मौके पर उन्होंने कर्मचारियों को बधाई दी।ड्ढr श्री गौड़ ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि चुनार और डाला में सीमेंट उत्पादन शुरू होने के बाद जेपी समूह देश में सीमेंट उत्पादन के क्षेत्र में तीसरे स्थान पर हो गया है। इसके अलावा यह समूह शिक्षा के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। समूह की ओर से संचालित विद्यालयों में 20 हजार छात्र अध्ययन कर रहे हैं। यह संख्या एक लाख तक पहुँचाने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि डाला व चुनार सीमेंट प्लांट की कुल उत्पादन क्षमता सितम्बर माह तक दो मिलियन टन प्रति वर्ष हो जाएगी। उनके मुताबिक यह समूह 60 लाख टन मिलियन टन प्रतिवर्ष की क्षमता से युक्त रीवाँ (मध्य प्रदेश) और टांडा (अम्बेडकरनगर यूपी) में 10 लाख टन क्षमता की ग्राइंडिग यूनिट तथा इलाहाबाद में छह लाख टन प्रति वर्ष क्षमता की एक ब्लेडिंग यूनिट संचालित कर रहा है। टांडा, सड़वा, डाला और चुनार के बाद जेपी सीमेंट उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा सीमेंट उत्पादक समूह हो गया है। इसे देश के तीसरे नम्बर का सबसे बड़ा सीमेंट उत्पादक होने का गौरव प्राप्त हुआ है। डाला और चुनार में क्रमश: 27 व 38 मेगावट की क्षमता के कोयले पर आधारित केण्टिव पावर प्लांट लगाने की तैयारी चल रही है। इससे उत्पादन लागत में कमी आएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चुनार सीमेंट फैक्ट्री में १० साल बाद उत्पादन शुरू