अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुशायरा : .. खुदा बचाए हमें मजहबी सियासतों से

‘मैं जिंदगी तुझे कबतक बचाकर रखूंगा,मौत रोज निवाले बदलती रहती है कागज के बने ताजमहल बेच रहे हैं जो कभी बाग के मालिक थे फल बेच रहे हैं,रोटी के लिए मीर गजल बेच रहे हैं खुदा बचाए हमें मजहबी सियासतों से ये पल-पल में पाले बदलते हैं मशहूर शायर मनौव्वर राणा की इन पंक्ितयों पर लोगों की दाद व मुकर्रर-मुकर्रर की आवाज। श्री राणा के साथ ही बशीर बद्र, निदा फाजली, मैराज फैजाबादी, पोपुलर मेरठी व पं. आनन्द मोहन जुत्शी गुलजार,वसीम बरैलवी समेत नामचीन शायरों ने शनिवार को शेरो-शायरी,गजल व नज्मों की ऐसी बारिश कर दी लोग वाह-वाह कर उठे। और वाह-वाह कहने वालों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को देख देश के नामचीन शायर भी गदगद हो उठे।ड्ढr ड्ढr मौका था बिहार उर्दू अकादमी द्वारा शनिवार की रात एसके मेमोरियल हॉल में आयोजित अखिल भारतीय मुशायरा का। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पद्मश्री डा.कलीम अहमद आजिज के साथ मिलकर शमा रोशन करके मुशायरा का आगाज किया । इस मौके पर मुख्यमंत्री ने खुर्शीद अनवर आरफी, डा. कमर हाशमी, खुर्शीद अकबर, आलम खुर्शीद, रेहान गनी, फरहत कादरी, शाहिद कलीम, सूरजदेव सिंह, आईपीएस अधिकारी एएस निम्ब्रान, ध्रुव भगत समेत दर्जनभर शायरों व पत्रकारों को सम्मानित भी किया। इसके बाद मुख्यमंत्री भी मुशायरे का लुत्फ उठाने सामने की कतार में बैठ गए। डा.कलीम अहमद आजिज की सदारत में मुशायरे की महफिल सजी। लखनऊ के रईस अंसारी ने मुशायरे का संचालन करते हुए सबसे पहले कोलकाता की युवा शायरा सोगरा हुसैन को आवाज दी। उन्होंने तरन्नुम में गजल सुनायी। उनके बाद मैराज फैजाबादी (फैजाबाद) ने मुशायरे को अपनी गजलों व नज्मों से गरमाया। उनकी शायरी की कुछ बानगी ‘ . मैं समंदर भी किसी गैर के हाथों न लूं, एक कतरा भी समंदर है अगर है तो दे दे कि उसमें दुखदर्द सिमट जाएसबको बांट दे खुशी ला मुझे आंसू दे दे।’ड्ढr ड्ढr मेरठ के पोपुलर मेरठी ने अपनी मजाहिया शायरी से ऐसी महफिल जमायी कि पूर हॉल कहकहों में डूब गया। अन्ना देहलवी के मंच पर आते है महफिल में रवानगी आ गयी। तरन्नुम में उन्होंने छेड़ी गजल की तानें कि लोग मस्त हो गए। मनौव्वर राणा ने मां को लेकर सुनायी अपनी से सबको भाव-विभोर कर दिया। बशीर बद्र व निदा फाजली ने भी अपनी बेहतरीन गजलों व नज्मों की बारिश में श्रोताओं को भिगोया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुशायरा : .. खुदा बचाए हमें मजहबी सियासतों से