DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर जिले में एक और पारिवारिक सहायता केन्द्र खुलेंगे

सास-बहू के झगड़े। पति-पत्नी की खटपट। बहू-ननद की नोकझोंक। घर के आंगन के ये झगड़े चौपाल तक पहुंच रहे हैं। महिलाओं के खिलाफ होने वाली घटनाओं को आपसी बातचीत व मनोवैज्ञानिकों की परामर्श से सुलझाने के प्रयास के तहत पारिवारिक सहायता केन्द्रों की स्थापना हुई है। बिहार राज्य समाज कल्याण बोर्ड द्वारा फिलहाल सूबे के 36 जिलों में इस तरह के केन्द्र स्वैच्छिक संगठनों की मदद से चलाए जा रहे हैं। बोर्ड ने अगले वित्तीय वर्ष से सभी जिलों में एक-एक और पारिवारिक सहायता केन्द्र खोलने का फैसला लिया है।ड्ढr ड्ढr सूबे की बढ़ती आबादी के मद्देनजर जिलों में चल रहे पारिवारिक सहायता केन्द्र नाकाफी साबित हो रहे हैं। महिलाओं के खिलाफ अत्याचार की घटनाओं में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हर जिले में एक और पारिवारिक सहायता केन्द्र खुलेंगे