DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बोर्ड अध्यक्ष का डीचाी निगरानी पर मुकदमा

बिजली बोर्ड के अध्यक्ष स्वपन मुखर्जी समेत चार वरीय इंजीनियरों पर विजिलेंस थाने में एफआईआर दर्ज किया गया है। इसके पूर्व बिजली बोर्ड के अध्यक्ष ने सीजेएम कोर्ट में बोर्ड में नियुक्त डीजी (विजिलेंस) मनोज नाथ पर भयादोहन का मामला दर्ज किया है। उन्होंने श्री नाथ के खिलाफ ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव को भी शिकायत की है। विजिलेंस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बोर्ड अध्यक्ष व इंजीनियरों पर विद्युत उपभोक्ताओं को नाजायज तरीके से 1रोड़ रुपए का लाभ पहुंचाने का आरोप है।ड्ढr ड्ढr यह राशि 54 करोड़ तक हो सकती है। विजिलेंस का कहना है कि छूट का लाभ ऐसे-ऐसे उपभोक्ताओं को दिया गया है जो साल में दो-दो बार मीटर से छेड़छाड़ में पकड़े गए। इनके खिलाफ जांच चल ही रही थी, बावजूद बोर्ड ने इन्हें लाभ दे दिया।ड्ढr ड्ढr उधर बोर्ड अध्यक्ष ने सीजेएम कोर्ट में दर्ज मामला में आरोप लगाया है कि श्री नाथ ने उनके कार्यालय कक्ष में आकर उनके साथ र्दुव्‍यवहार किया और अपशब्द कहे। श्री नाथ ने उनसे अपने कार्यालय कक्ष को सुसज्जित करवाने को कहा था। 30 मार्च को वे उनके कार्यालय में आए और बिजली बोर्ड का गेस्ट हाउस 30 दिनों के लिए मांगा। ऐसा नहीं करने पर उन्होंने केस में फंसाने और जेल भेजने की धमकी भी दी। कोतवाली थाने ने उनकी एफआईआर तक नहीं दर्ज की मजबूर होकर उन्हें सीजेएम कोर्ट में मामला दर्ज करवाना पड़ा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बोर्ड अध्यक्ष का डीचाी निगरानी पर मुकदमा