अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न्याय नहीं हो पा रहा बिहारी प्रतिभा के साथ

पद्म पुरस्कारों में बिहारी प्रतिभा के साथ न्याय नहीं हो पा रहा है। बिहार में प्रतिभाआें की कमी नहीं है। बिहार में एक से बढ़कर प्रतिभा पैदा हुई हैं लेकिन अब तक किसी को पद्मविभूषण पुरस्कार नहीं मिला है। साइंस कॉलेज के पूर्ववर्ती छात्र सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पद्मविभूषण पाने के लिए क्या यहां के लोगों को महाराष्ट्र या दक्षिण के राज्यों में जन्म लेना पड़ेगा। उन्होंने मंच पर बैठे केंद्रीय कृषि एवं खाद्य मंत्री अखिलेश प्रसाद सिंह से कहा कि ऐसे पुरस्कारों के लिए आप व हम सब को मिलकर प्रयास करना होगा। साथ ही उन्होंने पटना विवि को केंद्रीय विवि का दर्जा दिलाने के लिए भी समेकित प्रयास के लिए यहां के पूर्व छात्र व केंद्रीय रेल मंत्री लालू प्रसाद व अन्य लोगों को साथ मिलकर काम करने को कहा।ड्ढr ड्ढr मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में शिक्षण संस्थाआें की काफी अधिकता थी। एक समय पटना साइंस कॉलेज एशिया में सर्वश्रेष्ठ था। इसको पुराने मुकाम पर पहुंचाने की जरूरत है। इसके लिए सरकार विकास राशि प्रदान करेगी। अब स्थिति यह है कि देश में ही यहां के छात्रों को खदेड़ा जा रहा है। इसको देखते हुए सरकार ने सूबे में बेहतरीन तकनीकी शिक्षण संस्थानों को खोलने की योजना तैयार की है। कॉलेज प्राचार्य के अनुरोध पर तत्काल ही फोन पर मुख्यमंत्री ने शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव को जिमनेजियम व कांफ्रेंस हॉल के निर्माण के लिए विशेष योजना तैयार करने का निर्देश दिया है। इस मौके पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि महाराष्ट्र की घटना के बाद वहां से पलायन कर रहे छात्रों के लिए बेहतर संस्थान तैयार करने की जिम्मेवारी हमारी है। वहीं नगर विकास एवं आवास मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि आगे से ऐसे कार्यक्रम में बेहतर प्रदर्शन करनेवाले पांच छात्रों को भी सम्मानित किया जाए। इस मौके पर कुलपति डा. श्याम लाल, प्रति कुलपति प्रो. एसआई अहसन, पूर्ववर्ती छात्र संघ के सचिव उपेंद्र किशोर सिन्हा ने भी अपनी बातें रखीं। कॉलेज के प्राचार्य डा. एसएन गुहा ने स्वागत व प्रो. एसएन सिन्हा ने धन्यवाद ज्ञापन किया।ड्ढr ड्ढr मराठी संस्कृति की जमकर की तारीफड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार के मराठा राज्यपाल और मराठी संस्कृति की जमकर तारीफ की है। रविवार को साइंस कॉलेज में आयोजित समारोह के बाद संवाददाताओं से बात करते हुए उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सांस्कृतिक रूप से विकसित राज्य है। इसने नारी शिक्षा और सामाजिक न्याय आंदोलन में अन्य प्रदेशों का मार्गदर्शन किया है। केन्द्र और महाराष्ट्र की यूपीए सरकारों की ढिलाई की वजह से वहां हालात खराब हो गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग विकास और सामाजिक सद्भाव का माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। फिर भी मुझे पूरी उम्मीद है कि महाराष्ट्र के शांतिप्रिय निवासी ऐसे स्वार्थी और विघटनकारी शक्ितयों को नकार देंगे।विधानसभा में राज्यपाल आर.एस.गवई के खिलाफ विपक्षी दलों की टिप्पणी पर खेद प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री गवई के रूप में बिहार को एक सुयोग्य राज्यपाल मिला है। वे राज्य में शिक्षा के उत्थान के लिए सरकार का लगातार मार्गदर्शन कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: न्याय नहीं हो पा रहा बिहारी प्रतिभा के साथ