अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसानों को हरियाली दे सकते हैं चिदम्बरम

बजट में इस बार केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदम्बरम किसानों के लिए कुछ मनभावन घोषणाएं कर सकते हैं। कुछ शर्तो के साथ कर्ज-माफी और फ सल-बीमा की बेहतर योजना जैसी घोषणाएं इसमें अहम हो सकती हैं। अगले चुनाव की तैयारी में जुटे सत्तारूढ़ गठबंधन के लिए इस बार किसानों की याद आना स्वाभाविक है। लगभग इसी तर्ज पर विपक्षी गठबंधन-यूएनपीए ने बजट से तीन दिन पहले मंगलवार को यहां जंतर मंतर पर किसानों की समस्या को लकर महाधरना की तैयारी की है। सत्तारूढ़ गठबंधन के दो अहम सहयोगी दलों-भाकपा और माकपा ने इसमें शामिल होने का ऐलान करके अगले चुनाव तक नई मोर्चेबंदी के उभार का संकेत दिया है। इस बीच, प्रधानमंत्री ने भी सोमवार को यहां पंजाब से आए किसानों के एक समूह को संबोधित किया। किसानों के इस समूह ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की और पंजाब में किसानों के कर्ज माफी के यूपीए सरकार के पूर्व फैसले के लिए उनका धन्यवाद ज्ञापन किया। जाहिर है, पिछले साल के सरकारी-फैसले पर बजट से ऐन पहले धन्यवाद-ज्ञापन का यह कार्यक्रम प्रायोजित था और इसका मकसद था-किसानों में कांग्रेस की पकड़ बढ़ाना। डा. सिंह ने अपने संक्षिप्त भाषण में साफ संकेत दिया कि उनकी सरकार नए बजट में किसानों को कई तोहफे देने जा रही है। कुछ दिन पहले यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी किसानों पर ध्यान देने का वित्त मंत्री को सुझाव दिया था। लेकिन यूएनपीए के नेता सरकार की किसान नीति से खफो हैं। किसान महाधरना से पहले सपा, नेकां, इनेलो आदि ने सोमवार को यहां एक पंचसितारा होटल में अपनी बैठक की। इसमें आगे की रणनीति पर विचार किया गया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: किसानों को हरियाली दे सकते हैं चिदम्बरम