अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांव- कांव

शादी के बाद रोमांस का आनंद अलगड्ढr दहेज वाला पैसा से फुटानी करने में मजा अइबे करेगा-शादी के बाद किसी और से रोमांस करने का मजा ही कुछ और है-चंदनड्ढr बेलनवा वाला रोमांस का मजा तो शादी के बाद ही मिलता है-विनित, डालटनगंजड्ढr काहेला सब को चना के झाड़ पर चढ़ा रहे हैं-मुकुल, चाईबासाड्ढr अपनी या पड़ोस वाली से-कमोद सेठ,पारसनाथड्ढr धृतराष्ट नहीं हूं, सब कुछ देख रहा हूंड्ढr तो झारखंड का चीरहरण काहेला करा रहे हैं-बसंत साहू, वीरमित्रपुरड्ढr समाज को जगाना है : दुलाल भुइयांड्ढr रहने दीजिये, फिर आपलोगों की नींद हराम हो जायेगी-ड्ढr टिकट मांगा, तो हो गया टीटीइ सस्पेंडड्ढr नया रेल बजट का एक झलक था का लालू जी-प्रताप पॉल, रांचीड्ढr टिकट की जगह प्रमोशन क्यों नहीं मांगा-शमीम, सिमडेगाड्ढr विस में क्या होगा कांग्रेस का स्टैंडड्ढr लो जिसका कोई पैर नहीं, उसी से पूछने चले जूते का नंबर-निलेश, दुमकाड्ढr गरीबों को हक दिलाना झाविमो का उद्देश्य : मरांडीड्ढr और गरीबों के नाम पर कुर्सी हथियाना लक्ष्य-आरबी कुमार, चंदवाड्ढr पता नहीं आपको अपना हक कब मिलेगा-0754063ड्ढr आपका उद्देश्य तो रैली कर भीड़ जुटाना है-दानिश रजा, जयंतगढड़्ढr ठीक है, लेकिन पहले आप अपना हक तो पा लें- एहसान अहमद, गिरिडीहड्ढr 60 की स्पीड से दौड़ रहा है स्वास्थ्य विभाग : भानूड्ढr और बाकी बाबूजी की सेवा में लगा दिया क्या-आेम प्रकाश गोयल, सिमडेगाड्ढr रामायण के बाद अब महाभारत की भी होगी वापसीड्ढr नेताआें का महाभारत देखना है, तो झारखंड आइये-संगीता, चंदवाड्ढr अफीम तस्करों का गढ़ बना झारखंडड्ढr तो गर्व से कहो हम झारखंडी हैं-नबिल अंसारी, नगर ऊंटारीड्ढr मेहमानों की गुंडागर्दी बरदाश्त नहीं : राजड्ढr रोज-रोज एक ही बात बोलते हैं, इन्हें आगरा या कांके भेजो यार-सुभाष डेड्ढr अपराधियों के मन में पुलिस का खौफ नहीं : राबड़ीड्ढr उनके सिर पर आप जैसे नेताआें का हाथ जो है-मनोज सेठ, पारसनाथड्ढr मतलब सरकार एनडीए की और प्रशासन राजद का-मिंटू, धनबादड्ढr नहाने लायक भी नहीं है धनबाद का पानी : डॉ विजयड्ढr अब समझा, यहां के लोग ठर्रा क्यों पीते हैं-आशीष अग्रवाल, राजगंजड्ढr कोड़ा सरकार रहे या जाये, परवाह नहीं : मरांडीड्ढr वही तो, आखिर कितना धक्का मारियेगा-मुझे तो सिर्फ बीजेपी का टांग जो खींचना है-आशीष शाहदेव, लातेहारड्ढr खाना बनाने से इंकार नहीं है तलाक का आधारड्ढr तो टांगा चलाने के आधार पर बसंती को तलाक दे सकते हैं न-001ड्ढr परीक्षाआें में नशीली दवाएं पहुंचाती हैं नुकसानड्ढr इसलिए दारू पीजिये और मस्त रहिये-दिलीप रक्षितड्ढr हिन्दी बोलने में शर्म नहीं गर्व करें : रमन्नाड्ढr हमें तो हिन्दी बोलने में नहीं, मराठी बोलने में शर्म आती है-इस बार चुनाव में चुप है राजनीतिक दलड्ढr अब इशारांे-इशारों में काम करने का इरादा होगा क्या-चंद्रशेखर, जयंतगढड़्ढr उत्तर लिख कर याद करें, बढ़ेगा आत्मविश्वासड्ढr पूरा कुंजिका लेकर जा रहे हैं, आप आत्मविश्वास की बात करते हैं- अवध किशोर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कांव- कांव