अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न दौड़ पाने का दण्ड रोज भोग रहा हूँ मंत्रीजी : आेम प्रकाश

शिक्षक दल और माध्यमिक शिक्षा मंत्री के बीच पिछले कई दिनों से चल रहा शीतयुद्ध सोमवार को विधान परिषद में खुलकर सामने आ गया। शिक्षकों के सम्मान के सवाल को लेकर शिक्षक दल के नेता आेम प्रकाश शर्मा भावुक हो गए। शिक्षकों के सम्मान के लिए पूरा विपक्ष एकजुट हो गया।ड्ढr सोमवार को परिषद में नियम 105 के तहत शिक्षक दल के ने बलिया के डीआईआेएस द्वारा शिक्षकों को यूपीकोका में निरुद्ध करने के पत्र का मामला उठाया। यह पत्र कथित तौर पर बलिया के डीआईआेएस ने एसपी को भेजा था। शिक्षक दल ने पत्र की एक कॉपी भी सभापति कोदी। श्री शर्मा ने कहा कि मंत्री के निर्देश पर शिक्षकों को लगातार अपमानित किया जा रहा है। अलीगढ़ के एक स्कूल में खेलकूद की राज्यस्तरीय प्रतियोगिता के उद्घाटन के मौके पर वह अध्यक्ष थे। मुख्य अतिथि मंत्री रंगनाथ मिश्र थे। सबको खेलकूद की प्रतीक टोपी पहनाई गई थी। मंत्रीजी ने कहा कि जो लोग टोपी पहने हैं वह 400 मीटर ट्रैक पर दौड़ कर दिखाएँ। उन्होंने कहा खा-खा कर सब मोटे हो गए हैं।ड्ढr श्री शर्मा ने कहा कि उन्होंने अपनी टोपी उतार कर मेज पर रख दी। वह 75 वर्ष की इस उम्र में 400 मीटर दौड़ कर मूच्र्छित नहीं होना चाहते थे लेकिन उन्हें रिटायरमेंट की उम्र में पहुँच चुके पीटी टीचरों पर दुख हुआ। किसी को हाईब्लड प्रेशर था तो कोई दिल का मरीज। उन्हें दौड़ना पड़ा था। वर्ना मंत्रीजी उनका वेतन काट देते। श्री शर्मा ने कहा कि मैं नहीं दौड़ पाया इसलिए रोज दण्ड पा रहा हूँ। इस विधान परिषद में 36 साल हो गए लेकिन कभी ऐसा लांछन नहीं सेहना पड़ा। मैं अपना अपमान सह सकता हूँ लेकिन शिक्षकों का नहीं जिन पर यूपीकोका लगाने की धमकी दी जा रही है।ड्ढr सदन में नेता विरोधी दल अहमद हसन, यशवंत सिंह, मुन्ना सिंह चौहान, नसीब पठान सबने सरकार से शिक्षकों के सम्मान को बनाए रखने की अपील की। माध्यमिक शिक्षा मंत्री श्री मिश्र ने कहा कि 105 की सूचना ही काल्पनिक है। किसी शिक्षक के खिलाफ एफआईआर या यूपीकोका लगाने की बात नहीं लिखी गई। गृह विभाग की रिपोर्ट है कि बलिया के एसपी को भी ऐसा कोई पत्र नहीं मिला। फिर भी इस पत्र की जाँच से करा ली जाएगी। अगर डीआईआेएस दोषी पाए गए तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।ड्ढr श्री मिश्र ने खेलकूद प्रतियोगिता की घटना के बारे में कहा कि पीटी मास्टर व्यायाम नहीं करते। रैली का महत्व बढ़ाने के लिए मैंने अपने साथ सबको दौड़ने के लिए कहा तो क्या बुरा किया? अगर यह बात गलत है तो मैं वापस लेता हूँ। उन्होंने कहा कि अगर मैंने कुछ गलत किया है तो मैं खेद व्यक्त करने के लिए तैयार हूँ। सभापति चौ. सुखराम सिंह यादव ने कहा कि सरकार जाँच कर अपना वक्तव्य सदन को दे और दोषी पाए जाने पर डीआईआेएस के खिलाफ कार्रवाई करे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: न दौड़ पाने का दण्ड रोज भोग रहा हूँ मंत्रीजी : आेम प्रकाश