अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मानव जीवन का ऑक्सीजन सोख रहे हैं वाहन : प्रो दास

अंतरराष्ट्रीय पर्यावरणविद् सह संबलपुर यूनिवर्सिटी के पूर्व वीसी प्रो एमसी दास ने कहा कि मानव जीवन का ऑक्सीजन सड़कों पर दौड़ते वाहन सोख रहे हैं। एक मनुष्य जितना ऑक्सीजन जीवन भर सांस के रूप में लेता है, उतना एक कार दस हजार किमी चलने में सोख लेती है। आज विश्व में लगभग 450 मिलियन वाहन चल रहे हैं। इससे स्पष्ट है कि हम पर्यावरण को कितनी क्षति पहुंचा रहे हैं। प्रो दास ने उक्त बातें 25 फरवरी को रांची विवि के एकेडेमिक स्टॉफ कॉलेज में पर्यावरण विज्ञान के रिफ्रेशर कोर्स के समापन मौके पर बतौर मुख्य वक्ता कहीं। उन्होंने कहा कि भारतीय धर्मग्रंथों में धारणीय विकास की अवधारणा मिलती है। भारतीय संस्कृति में भी पर्यावरण के संरक्षण के प्रति काफी आस्था व्यक्त की गयी है। उन्होंने कार्बन ट्रेडिंग में भारतीय योगदान के संबंध में और ग्रीन हाउस गैसेज के संबंध में विस्तृत चर्चा की। समारोह की अध्यक्षता विज्ञान संकायाध्यक्ष प्रो हंसा प्रसाद ने की। मौके पर तीन राज्यों से आये 47 प्रशिक्षुओं को प्रमाण पत्र दिया गया। कई प्रशिक्षुओं ने अपने अनुभव भी सुनाये। यह कोर्स छह से 25 फरवरी तक चला। इससे पूर्व अतिथियों का स्वागत कॉलेज के निदेशक डॉ बहुरा एक्का ने किया। पाठय़क्रम समन्वयक डॉ एमपी सिन्हा ने विषय प्रवेश कराया और कार्यक्रम का संचालन किया। इस अवसर पर वनस्पतिशास्त्र विभागाध्यक्ष डॉ राधा साहू सहित कई शिक्षक उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मानव जीवन का ऑक्सीजन सोख रहे हैं वाहन : प्रो दास