DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अदालत ने दो दिलों को मिलाया

प्रेम करने वाले युवा के साथ वयस्क युवती को साथ जाने की इजाजत मंगलवार को अंतत: पटना हाईकोर्ट ने दे दी। मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजेश बालिया और न्यायमूर्ति बारिन घोष की खण्डपीठ ने लड़की प्रीति झा और लड़का सुमंत स्वरूप से चैम्बर में पहले अलग-अलग बात की। मुख्य न्यायाधीश के समक्ष दोनों ने ही अपने प्यार का इजहार किया और कहा कि वे दोनों शादी करना चाहते हैं। इससे पहले लड़की की आेर से बन्दी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर करने वाले वकील अतुल चन्द्र ने अदालत से अनुरोध किया कि लड़की भी आ चुकी है। लड़का और उसके परिवार का जो फैसला होगा वह मान्य होगा।ड्ढr ड्ढr कनीय सरकारी वकील रंतीत सिन्हा ने समस्तीपुर पुलिस के साथ आई लड़की प्रीति को अदालत के सामने पेश किया। लड़का और लड़की की बातों से संतुष्ट होने के बाद अदालत ने लड़के के पिता और उसके परिवार वालों के साथ ही लड़की के भाई से भी बात की। मुख्य न्यायाधीश ने एक अभिभावक की भूमिका निभाते हुए लड़के के पिता से पूछा कि बहू को कहां रखोगे? जबाब मिला कि अपने घर में रखूंगा। अदालत को बताया गया कि बुधवार को ही दोनों की शादी कर दी जाएगी। अदालत की पहल पर दो युवा दिल एक हो गए और न्याय पाकर प्रसन्नता के साथ विदा हुए। अदालत ने कहा कि दोनों वयस्क हैं और उन्हें अपनी मर्जी से जीवन जीने का संवैधानिक अधिकार प्राप्त है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अदालत ने दो दिलों को मिलाया