अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहले गिराते हैं नोट, फिर पहुंचाते चोट

अगर आपकी गाड़ी के आगे सड़क पर आगे सौ- सौ या पचास- पचास के नए कड़कड़ाते नोट गिरे दिखाई दें तो स्वाभाविक है कि आपका मन डगमगा जाएगा। जाहिर है आप गाड़ी रोककर या उसका गेट खुला छोड़कर रुपयों की तरफ लपकेंगे।ड्ढr ड्ढr लेकिन, जब आप वापस लौटेंगे तो पता चलेगा कि सड़क पर गिरे जिन नोटों को देखकर आपने पता नहीं क्या- क्या ख्वाब देख डाले थे, सब ध्वस्त हो गए हैं क्योंकि आपके गाड़ी से उतरने और वापस आने के बीच उसमें रखा कीमती सामान गायब हो चुका है। सावधान! राजधानी पटना में आजकल ऐसा ही एक गिरोह सक्रिय है, जो वाहन चालकों को इस तरह ठगकर उनकी गाड़ियों में रखा कीमती सामान पलक झपकते गायब कर देता है। यह गिरोह उन गाड़ियों पर खास निगाह रखते हैं, जिनके मालिक ड्राइवर के भरोसे गाड़ी छोड़कर चले जाते हैं। होता ये है कि गिरोह का कोई सदस्य खड़ी गाड़ी के ड्राइवर के पास जाता है और कहता है कि ‘भाईसाहब, लगता है आपके रुपए गिर गए हैं।’ ये ड्राइवर वाहन से उतर रुपयों तक जाता है, इसी बीच वहां मौजूद अन्य सदस्य कार का दरवाजा खोलकर अंदर रखा बहुमूल्य सामान गायब कर देते हैं। बाद में मौका देखते ही गिरोह के सदस्य गाड़ी चालक से थोड़ी दूर पर उक्त नोट छीन लेते हैं। बीते दिनों कोतवाली थाना क्षेत्र में ऐसी कई घटनाएं घट चुकी हैं। अनलॉक गाड़ियां खासकर इस गिरोह का निशाना बनती हैं। बीती 23 फरवरी को इसी थाना क्षेत्र फ्रेजर रोड व काशी पैलेस के पास हुईं दो वारदातों में इस गिरोह ने रिलायंस के एक अधिकारी और एक व्यवसायी का लैपटॉप उड़ा लिया जबकि इसके पूर्व दो घटनाआें में उच्चकों ने एक ब्रीफकेस एवं बैग पार कर दिया था। संयोगवश ब्रीफकेस व बैग में बहुमूल्य सामान न होकर सिर्फ कागजात थे। बहरहाल इस तरह के गिरोह के सक्रिय होने के बाद कोतवाली पुलिस भी सजग हो गई है। थाना प्रभारी अभय नारायण सिंह ने बताया कि गिरोह के सदस्यों को दबोचने के प्रयास किए जा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पहले गिराते हैं नोट, फिर पहुंचाते चोट