अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बदजबानी के बावजूद भी साफ छूट गए मैथ्यू हेडन

क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने साबित कर किया है कि उनके देश के खिलाड़ियों को सौ खून भी माफ हैं। तमाम दबावों के बाद भी क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने भारतीय ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले मैथ्यू हेडन को सिर्फ चेतावनी देकर छोड़ दिया । इस पूरे प्रकरण के दौरान क्रिकेट आस्ट्रेलिया का रुख इसी से पता चलता है कि कुछ घंटे पहले ही हेडन को आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में दोषी करार दिया गया लेकिन सजा के बजाए मिली सिर्फ चेतावनी।ड्ढr मैथ्यू हेडन ने ब्रिसबेन रेडियो पर एक वार्ता के दौरान हेडन ने कहा था कि मेरी हरभजन से तनातनी पुरानी है। मैं उससे जब पहली बार भिड़ा था वह तब भी जंगली खरपतवार जैसा था और वैसा ही अब भी है। हेडन ने कहा कि अब तक भज्जी न जाने कितनी बार आईसीसी से दंड पा चुके हैं उन्हें खुद भी नहीं पता होगा। इस टिप्पणी पर क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने संज्ञान लेते हुए हेडन को आचार संहिता के नियम नौ के उल्लंघन का दोषी करार दिया। मीडिया ने भी उम्मीद जताई थी कि अपने खिलाड़ियों के व्यवहार से शर्मिदा क्रिकेट आस्ट्रेलिया इस बार हेडन पर जुर्माना करेगा। लेकिन आचार संहिता आयुक्त रॉन बेजली ने हेडन को ढाई घंटे की सुनवाई के बाद केवल चेतावनी देकर छोड़ दिया। आईसीसी को भी आस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की गलतियाँ नजर नहीं आती। इसकी बानगी 24 फरवरी को खेले गए सिडनी के मैच में भी देखने को मिली थी जिसमें साइमंड्स के उकसाने पर इशांत शर्मा मे बाहर जाने का इशारा किया। पूरे प्रकरण में साइमंड्स को दरकिनार कर इशांत पर जुर्माना ठोक दिया गया।ड्ढr बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रत्नाकर शेट्टी ने कहा कि बोर्ड ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की इस तरह की टिप्पणियों की निंदा करता है। उन्होंने कहा, ‘हमने अपने खिलाड़ियों को संयम बरतने की सलाह दी है। इसके बावजूद उन्हें इस तरह की टिप्पणियों का निशाना बनाया जाना गैरवाजिब है।’ उन्होंने कहा, ‘हम सीए को इस बारे में लिख चुके हैं।’ इस बीच भारतीय टीम के मैनेजर विमल सोनी ने सिडनी में कहा, ‘हमारे खिलाड़ी हेडन की टिप्पणी पर सार्वजनिक रूप से कुछ नहीं कहना चाहते।’ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बदजबानी के बावजूद भी साफ छूट गए मैथ्यू हेडन