अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महंगाई पर काबू पाने को ठोस कदम उठाएं

‘बजट में दाम बढ़ल त घरो के बजट बिगड़ जाई’। शुक्रवार को आने वाले आम बजट को लेकर अभी लोग आशंका और संभावनाआें की गणना में जुटे हैं। महिलाआें का कहना है कि पहले से ही महंगाई से जुझ रही जनता को निजात दिलाने का प्रयास किया जाना चाहिए। लोगों को उम्मीद है कि बजट आने के बाद महंगाई पर कुछ रोक लगेगी। लोगों का मानना है कि आयकर में छूट की सीमा बढ़ा देनी चाहिए।ड्ढr ड्ढr सुजाता सिंह का कहना है कि मैं वित्त मंत्री से उम्मीद करती हूं कि इस बजट में रोजमर्रा के सामान की कीमतों में जो बढ़ोत्तरी हो रही है, उसपर काबू पाने के लिए कोई ठोस कदम उठाएं। खासकर आटा, दाल, चावल एवं खाद्य तेल की कीमतों में जो वृद्धि हुई है उसपर अविलंब रोक लगे। नहीं तो मध्यवर्गीय महिलाआें के लिए घर चलाना मुश्किल हो जाएगा। प्रभात कुमार का कहना है कि आयकर का स्लैब बढ़ाना चाहिए। महंगाई को देखते हुए इसे कम से कम दो लाख कर देना चाहिए। चूंकि हमारा देश एक कृषि प्रधान देश है इस लिए सरकार को चाहिए कि आम बजट में कृषि पर विशेष ध्यान दे। साथ ही देश में रोजगार के अवसर बढ़ाएं ताकि देश के अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मिल सके। नीता कुमार ने कहा कि इस बार सरकार कुछ ऐसा बजट पेश करे कि बजट से निम्न एवं मध्य वर्ग के लोग ज्यादा लाभांवित हों। सरकार को चाहिए कि कम से कम खाने-पीने के सामानों में विशेष ध्यान दें और घरेलू गैस की कीमतों में वृद्धि न बढ़े, इसपर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।ड्ढr ड्ढr उपेन्द्र प्रताप सिंह का कहना है कि सरकार को लाइफ सेविंग दवाआें पर टैक्स खत्म करके या कम करके उसे सस्ता करने की कोशिश करना चाहिए। वकील, डाक्टर पर से सर्विस टैक्स हटा देना चाहिए। सरकार को पेट्रोल एवं डीजल में दोहरी मूल्य की व्यवस्था करनी चाहिए।ड्ढr अमरेन्द्र नारायण ठाकुर का कहना है कि हर क्षेत्र में महंगाई कम होनी चाहिए। क्रय मूल्यों में कमी होने से ही सस्ता होगा विक्रय। महंगाई जब बढ़ती है तो घर का बजट भी बिगड़ जाएगा।ड्ढr वैसे उन्हें पूरा विश्वास है कि केन्द्र सरकार जो आम बजट पेश करेगी वह गरीब एवं मध्य वर्ग के लोगों को ध्यान में रखकर करेगी।ड्ढr इप्शिता दास का कहना है कि उपभोक्ता संबंधित वस्तुआें के दाम कम होने चाहिए। पेट्रोल एवं डीजल की कीमत कम होने चाहिए। अगर अन्तरराष्ट्रीय बाजार में तेल के दाम बढ़ने से सरकार पर बोझ बढ़ रहा है तो इस बोझ को दूसरी आेर डायभर्ट कर देना चाहिए परंतु रोजमर्रा के सामानों पर नहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महंगाई पर काबू पाने को ठोस कदम उठाएं