DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तड़ीपार होंगे रंगदार

इलाकों में कॉलर खड़ा कर घूमने वाले रंगदारों को जिले से खदेड़ने की तैयारी शुरू हो गयी है। लोकसभा चुनाव में गड़बड़ी की आशंका के मद्देनजर आपराधिक मामलों में चार्जशीटेड लोगों को अब तड़ीपार किया जाएगा। यानी ऐसे लोग जिला बदर किए जाएंगे। सभी जिलों के डीएम और एसपी को इस बाबत निर्देश जारी किए गए हैं। पुलिस मुख्यालय के अनुसार हत्या, हत्या के प्रयास या आर्म्स एक्ट सहित अन्य आपराधिक मामलों में जो लोग चार्जशीटेड रहे हैं उन्हें जिला बदर किया जाएगा। आपराधिक मामलों में चार्जशीटेड व्यक्ितयों को बिहार क्राइम कंट्रोल एक्ट के तहत जिला बदर करने की तैयारी है। डीएम स्तर से ही ऐसे मामलों में कार्रवाई की जा सकती है।ड्ढr ड्ढr जिला बदर किए गए लोगों ने जिला छोड़ा है या नहीं इसकी भी जांच होगी। इसके लिए दूसर जिले की कोतवाली में उन्हें सुबह-शाम हाजिरी देनी होगी। मुख्यालय के अनुसार जोन स्तर पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को बिहार क्राइम कंट्रोल एक्ट की धारा-3 का प्रयोग करने को कहा गया है। चुनाव आयोग ने भी स्पष्ट तौर पर कहा है कि अपराधिक छवि वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। इसके अलावा करीब 46 हजार गैर जमानती वारंटो का भी तामिला कराया गया है। बताया जाता है कि इनमें से करीब 20 हजार व्यक्ितयों को गिरफ्तार कर जेल भेजने की कार्रवाई भी की गयी है। दूसरी ओर लाइसेंसी हथियारों का वेरिफिकेशन भी कराया जा रहा है। वैसे लोगों के लाइसेंसी हथियार जमा कराए जा रहे हैं जिनपर कभी कोई पुराना मामला रहा है या फिर उनके बारे ऐसी आशंका है कि वे चुनाव मे गड़बड़ी फैला सकते हैं। ऐसे करीब 3,हथियार जमा कराए गए हैं। सबसे अधिक 1050 लाइसेंसी हथियार सीवान जिले में जमा कराए गए हैं। इसके अलावा गया में 415, सारण में 387, नवादा में 284, दरभंगा में 174, बेगूसराय में 122, समस्तीपुर में 130 और पटना में अभी तक 60 लाइसेंसी हथियार जमा कराए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तड़ीपार होंगे रंगदार