DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपहृत इंजीनियर और सुपरवाइजर मुक्त

पुलिस ने विजेता कन्स्ट्रक्शन कम्पनी के अपहृत अभियंता संजय कुमार सिन्हा तथा सुपरवाइजर धमेन्द्र कुमार को अपहर्ताओं के चंगुल से 24 घंटे के अन्दर मुक्त करा लिया। अपहृतों को कैमूर जिला के बेलांव थानान्तर्गत बहेरा गांव से बरामद किया गया। पुलिस ने इस मामले में चार व्यक्ितयों को हिरासत में लिया है और पूछताछ कर रही है। रोहतास पुलिस ने कैमूर पुलिस के साथ मिलकर इस अपहर्ता गिरोह के खिलाफ साझा अभियान चलाने का निर्णय लिया है।ड्ढr ड्ढr यह जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक एन.एच.खान ने गुरुवार को अपने आवासीय कार्यालय में आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस में बताया कि अपहर्ता वर्दीधारी थे, और देशी हथियारों से लैस होकर कैम्प स्थल से दो मजदूरों को अगवा करके ले जा रहे थे उसके बेस कैम्प में घुस कर मजदूरों को छोड़ अभियंता और सुपरवाइजर को उठा ले गए। अपहर्ता लगातार अपहृत धर्मेन्द्र की मोबाइल (04332) से बातचीत कर रहे थे, जिससे उनका लोकेशन पता चल गया।ड्ढr सहायक पुलिस अधीक्षक पी. कन्नन तथा योगेन्द्र प्रसाद (निरीक्षक), थानाध्यक्षों नवीन कुमार सिंह, तारिक बिन अहमद, संजय पांडेय, घनश्याम प्रसाद की अगुवाई में सैप, सीआरपीएफ और बीएमपी के जवानों के साथ बहेरा तथा आसपास के करीब आधा दर्जन गांवों को पुलिस ने घेर लिया। फलत: अपहर्ता गिरोह के सदस्य अपहृतों को एक कमरे में बिठाकर भाग निकले। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि संभवत: अपहर्ता गिरोह के सदस्य पूर्व में नक्सली थे अथवा अपराधियों ने नक्सली के नाम इस घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने अपहृतों को छुपाकर रखे गए घर की शिनाख्त कर ली है। गायब सगी बहनों की लाशें कुएं में मिलींड्ढr टिकारी (नि.सं.)। पंचानपुर ओपी के कुसापी गांव से लापता बहनें पूनम कुमारी (7वर्ष) एवं पल्लवी उर्फ टोनी कुमारी (5 वर्ष) की लाश गुरुवार को गांव से लगभग एक किलोमीटर पश्चिम वाजितपुर गांव के बधार में एक कुएं से बरामद की गई। दोनों बच्ची क्रमश: दूसरे एवं पहले वर्ग की छात्रा थी। दोनों बहनें बीते रविवार की दोपहर से लापता थी। दोनों घर से बैर खाने के लिए निकली थी। उसके बाद घर वापस नहीं लौटी। मृतक बहनों के पिता सिकंदर यादव ने प्राथमिकी में अपने पड़ोसी एवं जद-यू नेता अरविंद कुमार वर्मा एवं उनके परिजनों पर दोनों बच्चियों की हत्या कर कुएं में फेंक देने का संदेह प्रकट किया है। अगवा कर अस्पताल कर्मचारी की हत्याड्ढr औरंगाबादमदनपुर (ए.सं. ए.प्र.)। औरंगाबाद सदर अस्पताल में पदस्थापित स्टोनो रामेश्वर प्रसाद की अपहरण के बाद उनकी हत्या बुधवार की रात अज्ञात अपराधकर्मियों द्वारा कर दी गई। अपराधियों ने रामेश्वर प्रसाद की हत्या उनके सिर में चाकू मारकर कर की है। उनकी लाश मदनपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग 2 पर स्थित माया बिगहा गांव के बधार से पुलिस द्वारा गुरुवार की सुबह बरामद की गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार अपराधियों द्वारा सोची-समझी रणनीति के तहत बुधवार की रात बाजार से ही उनका अपहरण किया गया तथा हत्या करने के बाद साक्ष्य छुपाने की नीयत से शव को बधार में फेंक दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अपहृत इंजीनियर और सुपरवाइजर मुक्त