अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मीडिया को लेकर माया व मुलायम में नोकझोंक

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री और विधानसभा में विपक्ष के नेता मुलायम सिंह यादव के बीच शनिवार मीडिया को लेकर जबरदस्त नाकझोंक हुई और आश्चर्यजनक रूप से अक्सर मीडिया की परवाह नहीं करने वाली मायावती ने इसकी सराहना कर सभी को अचंभे में डाल दिया। मायावती ने विधानसभा में कहा कि मीडिया लोकतंत्र का चौेथा खंभा है और इसपर हुआ कोई भी हमला लोकतंत्र पर हुआ हमला माना जाएगा। मुख्यमंत्री की यह टिप्पणी उस समय आई, जब मुलायम सिंह यादव ने कहा कि मीडिया राय में बसपा के नियंत्रण में है। नोकझोंक की शुरुआत यादव के यह कहने से हुई कि सरकार मंत्रिमंडलीय सचिव शशांक शेखर सिंह का बचाव करने में लगी है, जबकि उनका नाम नोएडा के गुर्दा रैकेट में आ चुका है। मीडिया भी इस मामले में इसलिए चुप है क्योंकि वह पूरी तरह से बसपा के प्रभाव में है। यादव के इस बयान पर मायावती ने कहा कि बसपा या मैंने या मेरी सरकार ने कभी भी ऐसा नहीं किया। ऐसा कहकर नेता विपक्ष अपने अनुभवों का ही बखान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार में ही मीडिया को प्रभावित करने का काम होता रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मीडिया लोकतंत्र का एक हिस्सा हैं और उनकी सरकार इस बात को अच्छी तरह समझती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मीडिया को लेकर माया व मुलायम में नोकझोंक