DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डाके की बनाई थी योजना गोल्डन गिरोह ने

ंकड़बाग पुलिस अगर शनिवार को खौफनाक गोल्डेन गिरोह को गिरफ्तार करने में सफलता नहीं पाती तो यह गिरोह कोतवाली पुलिस के लिए चुनौती बन सकता था। मार्च के प्रथम सप्ताह मंे इस गिरोह की योजना कोतवाली थाना से महज सौ मीटर की दूरी पर स्थित एक मोबाइल दुकान मंे दिनदहाड़े डाकेजनी की थी। पकड़े गए चारों लुटरों में तीन अपराध के साथ साथ पढ़ाई भी कर रहे थे।ड्ढr ड्ढr दो टीन एजर अनीस और विक्की के पिता सरकारी सेवक हैं, जबकि फरार दो अपराधियों में से एक मोनू के पिता पी एन एंग्लो स्कूल में अंग्रेजी के शिक्षक हैं। थाना प्रभारी रामाकांत प्रसाद ने बताया कि अनीस की दरियापुर मंे एसटीडीबूथ और मोबाइल की दुकान है। मोबाइल खरीदने के क्रम मंे ही वह कई बार मोबाइल मॉल गया था जहां बाद मंे डकैती का प्रयास असफल हो जाने पर इन सबने दुकान मालिक को गोली मार दी थी। उन्होंने बताया कि इस प्रयास मंे इन अपराधियों ने चार मोबाइलंे लूटी थी, जिनमें से तीन बरामद कर ली गई है। एक अन्य मोबाइल दो फरार अपराधियों के पास है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डाके की बनाई थी योजना गोल्डन गिरोह ने