अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाजीपुर में आयकर छापे में करोड़ों की अवैध सम्पत्ति का पता चला

आयकर विभाग के अधिकारियों ने सोमवार को शहर के तीन नामी-गिरामी गारमेंट्स दुकानों, संबंधित गोदामों और उनके संचालकों के आवासों पर छापेमारी की। सूत्रों के अनुसार देर शाम तक की गई छापेमारी में करोड़ों रुपए के चल व अचल संपत्ति का पता चला है।ड्ढr ड्ढr समाचार प्रेषण तक तलाशी चल रही थी। अपर आयकर आयुक्त सुषमा सिंह के नेतृत्व में पटना और गया की आयकर टीम ने संयुक्त रूप से दिन के लगभग डेढ़ बजे शहर के सागर गारमेंट्स, श्री राधा-रानी और चंदा-मामा प्रतिष्ठानों, इनके गोदाम और मालिकों के आवासों पर एक साथ छापेमारी शुरू की। आयकर अधिकारी ए के झा ने बताया कि छापेमारी में अनुमान से ज्यादा कपड़ा व अन्य सामान मिलने के कारण बाद में पटना से लगभग दो दर्जन विभागीय लोगों को बुलाकर तलाशी में लगाया गया।ड्ढr ड्ढr उन्होंने बताया कि अभी तक की तलाशी में उक्त प्रतिष्ठानों से करोड़ों के सामान मिले हैं जिनका लेखा-जोखा नहीं है। उन्होंने तलाशी की प्रक्रिया रात भर चलने की बात बताई। पत्रकारों द्वारा कुरेदने पर अधिकारी ने प्रष्ठिान के काउंटरों और उनके संचालकों के आवास से नकद रुपए, बैंक के कागजात और अन्य बहुमूल्य सामान मिलने की बात कही। लेकिन तत्काल सही आकलन बताने में असमर्थता जताई।ड्ढr ड्ढr छापेमारी शुरू होते ही एक प्रतिष्ठान से लेखा-बही लेकर भागने के प्रयास में एक कर्मचारी को गिरफ्तार किया गया। बाद में लेखा-बही जब्त कर गिरफ्तार नाबालिग कर्मचारी को छोड़ दिया गया। अधिकारियों ने शहर के अन्य प्रतिष्ठानों की सूची बना रखी है। जहां निकट भविष्य में छापेमारी की संभावना जताई गई है।ड्ढr ड्ढr आयकर विभाग की टीम द्वारा छापेमारी की खबर शहर में आग की तरह फैल गई और देखते ही देखते यहां के लगभग अधिकांश गारमेंट्स दुकान आनन-फानन में बंद हो गये। छापेमारी दल में पटना के सहायक आयकर आयुक्त के एल कनक, गया के सहायक आयकर आयुक्त ए के सिंह, आयकर अधिकारी एन के सिंहा, ए के झा आदि शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हाजीपुर में आयकर छापे में करोड़ों की अवैध सम्पत्ति का पता चला