अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लड़की 18 साल की होगी तो मिलेंगे एक लाख रुपये

ये होंगी शर्ते : लड़की को पढ़ाना होगा, टीके लगवाने होंगे, अच्छा भोजन देना होगा और 18 से पहले शादी नहीं कर सकेंगे लड़कियों को बोझ मानना अब शायद खत्म हो जाये। केंद्र सरकार ने इसी वजह से होने वाली कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए ‘धनलक्ष्मी’ नाम से सोमवार को नयी योजना शुरू की है। 10 करोड़ रुपए की यह योजना पहले उन सात राज्यों के 11 पिछड़े ब्लॉकों में लागू होगी, जहां लड़कियों से भेदभाव ज्यादा किया जाता है। केंद्रीय महिला और बाल कल्याण मंत्री रेणुका चौधरी का दावा है कि नयी योजना से कन्या भ्रूण हत्या पर प्रभावी रोक लग सकेगी। इस योजना के तहत बच्चियों वाले परिवारों को किस्तों में धन दिया जायेगा और सरकार उनकी देखभाल पर नजर रखेगी।ड्ढr इस योजना में बच्चियों के लालन-पालन के लिए किस्तों में 15 हजार 500 रुपये दिये जायेंगे और जब लड़की 18 साल की हो जायेगी, तो उसे एक लाख रुपये मिलेंगे। शर्त यह होगी कि उसे पढ़ाया गया हो, टीके लगवाये गये हों, अच्छा भोजन दिया जाता हो और वह शादीशुदा न हो। उन्होंने कहा कि इस योजना से लोगों को लगेगा कि बच्चियां बोझ ही नहीं होतीं और ऐसे में कन्या भ्रूण हत्या को रोकने में सरकार को आसानी होगी। सुश्री चौधरी ने यह जानकारी भी दी कि उनका मंत्रालय महिलाओं के मसलों को लेकर जनजागरण अभियान भी चलाएगा। इस अभियान के अंतर्गत रेल के टिकटों पर कन्या भ्रूण हत्या, बाल विवाह, दहेज, घरेलू हिंसा, प्रताड़ना और देह व्यापार के लिए महिलाओं की खरीद-फरोख्त जैसे मुद्दों को उठाया जायेगा। इसके अलावा निजी क्षेत्र के सहयोग से करीब 100 महिलाओं को विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षण देने और नौकरी दिलवाने की भी उन्होंने बात कही। मंत्री ने इस मौके पर मंत्रालय को मिले विभिन्न प्रस्तावों की ऑनलाइन देखरेख की योजना की भी शुरुआत की। इनमें काम करने वाली महिलाओं का हॉस्टल, स्वधार योजना, उज्ज्वला योजना, क्रेश और बाल विकास संबंधी योजनाएं शामिल हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लड़की 18 साल की होगी तो मिलेंगे एक लाख रुपये