DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लॉटरी से मिलेगा चुनाव चिह्न्, बंटवारा आज

पहली बार किसी भी चुनाव में प्रत्याशियों को लॉटरी के माध्यम से चुनाव चिह्न् का बंटवारा किया जायेगा। चुनाव चिह्न् का बंटवारा पांच मार्च को किया जायेगा। नगर निगम के चुनाव में खड़े प्रत्याशियों की संख्या काफी अधिक हैं। मेयर पद के लिए कुल 50 चुनाव चिह्न् आंवटित हैं। इसमें 20 सुरक्षित रखे गये हैं। इसके अलावा उपमहापौर के लिए 88 चुनाव चिह्न् हैं। पार्षद के लिए 46 सिंबल आवंटित हैं।ड्ढr मेयर के लिए आंवटित चुनाव चिह्न्ड्ढr कोट, बल्लेबाज, बाल्टी, डीजल पंप, अंगूठी, चम्मच, कुल्हाड़ी, गुब्बारा, मूली, छत का पंखा, कुर्सी, पतंग, कार, मोतियों की माला, वायुयान,कलम और दावात, ब्लैक बोर्ड, छाता, टेंट, बगुला, तितली, फांक, सीटी, बकरी, अमरूद, बाघ, फुटबाल, सेव, अंगूर, टमाटर, छड़ी, स्लेट, कटर, मेज, फ्राइमपैन, टॉफी, बल्ला, बिजली का खम्बा, डबल रोटी, ब्रीफकेस, केक, मोमबत्तीयां, लिफाफा, हैंगर, कैरम बोर्ड, जग, आयरन, आइसक्रीम, ऊन, स्टूल।ड्ढr डिप्टी मेयर के चुनाव चिह्न्ड्ढr बस, डोली, प्रेशर कुकर, कप और प्लेट, बैटरी टार्च, गैस सिलेंडर, टोप, कंघा, केटली, बंगला, रेल का इंजन, ताला और चाभी, लेटर बाक्स, सिलाइ मशीन, टोकरी, मक्का, वायलीन, अलमीरा, ट्रैक्टर, चश्मा, तराजू, सीढ़ी, उगता हुआ सूरज, आम, शंख, स्कूटर, चरखा, तोता, जोड़ा हिरण, ऊंट, दिवाल घड़ी, मछली, मुर्गी, जोड़ा बैल, गैंडा, टेबुल फैन, चिमनी, नेकटाइ, रोड रोलर, दाव, शटल, स्टोव, मोटर साइकिल, नल, बल्ब, जीप, काठ गाड़ी, हाथ ठेला, लड्डू, हल, टमटम, टेलीफोन, टाइपराइटर, ढाल, मोर, भोजन की थाली, पानी का जहाज, ट्रक, तलवार, कछुआ, कम्पयूटर, कैलकुलेटर, कबूतर, हंस, घोड़ा, करनी, जिर्राफ, दो बांसूरी, दीपक, सूर्यमुखी, पिलाश, कलश, सिंह, माइक, तब्ला, शरीफा, अन्नास, सेफटी रेजर, गुलाब का फूल, कैसेट, गोरैया चिड़िया, लेडिज डॉक्टर, पपीता, नींबू, खरगोश, हवाई चप्पल, गाय, ढोलक।जानवरों और पक्षियों को भी बनाया सिंबलरांची। रांची नगर निगम चुनाव के लिए आवंटित चुनाव चिह्नें में कई जानवरों तथा पक्षियों को भी शामिल किया गया है। दरअसल केंद्रीय मंत्री रहीं मेनका गांधी की आपत्ति के बाद भारत के चुनाव आयोग ने मान्यता प्राप्त दलों के चुनाव चिह्नें हाथी (बसपा) और बाघ (फारवर्ड ब्लॉक) को छोड़ कर बाकी ऐसे चुनाव चिह्नें का उपयोग बंद कर दिया है, जो जानवरों या पक्षियों के नाम पर तय किये जाते रहे हैं। लेकिन यहां बगुला, ऊंट, मछली, मुर्गी, बाघ, बकरी, जोड़ा हिरण, जिराफ जैसे जानवरों और पक्षियों को सिंबल में शामिल किया गया है। इस संबंध में राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव भगवान दास का कहना है कि आयोग को इस बाबत कोई दिशा निर्देश नहीं मिला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लॉटरी से मिलेगा चुनाव चिह्न्, बंटवारा आज