अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इटावा के एसएसपी को क्लीन चिट देने पर सपा का बहिर्गमन

मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी, राष्ट्रीय लोकदल तथा कांग्रेस ने मंगलवार को अलग-अलग मुद्दों पर सदन से बहिर्गमन किया। सपा ने चौधरी चरण सिंह कॉलेज, हैबरा गोलीकांड में इटावा के एसएसपी एसआरएस आदित्य को क्लीन चिट देने के विरोध में बहिर्गमन किया जबकि कांग्रेस ने केन्द्र सरकार के बजट के विरोध में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दिए गए विज्ञापन को संविधान विरोधी बताते हुए बहिर्गमन किया। रालोद के सदस्य करनाल की सभा में मुख्यमंत्री मायावती द्वारा जाटों के विरोध में दिए गए बयान पर भड़के थे। अध्यक्ष सुखदेव राजभर द्वारा यह मुद्दा उठाने की अनुमति न दिए जाने के विरोध में रालोद सदस्यों ने सदन का बहिर्गमन किया।ड्ढr मंगलवार को कार्यवाही शुरू होते ही सम्पूर्ण विपक्ष ने इन सभी मुद्दों को लेकर हंगामा खड़ा कर दिया। सपा, भाजपा, कांग्रेस और रालोद के सदस्य अपनी बात कहना चाह रहे थे मगर अध्यक्ष ने प्रश्नकाल की बजाय शून्यकाल में ये मुद्दे उठाने को कहा। विपक्षी सदस्य इससे संतुष्ट नहीं हुए और नारे लगाते हुए वेल में चले गए। अध्यक्ष ने कार्यवाही दो चरणों में 12.20 बजे तक के लिए स्थगित कर दी और प्रश्नकाल नहीं हो पाया।ड्ढr शून्यकाल में सपा के शिवपाल सिंह यादव तथा अम्बिका चौधरी ने इटावा के एसएसपी के विरुद्ध कार्रवाई करने की माँग की। उनका कहना था कि न्यायालय के आदेश पर एसएसपी व अपर पुलिस अधीक्षक आदि के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया। इन्हेंनिलम्बित करके गिरफ्तार किया जाना चाहिए। संसदीय कार्य मंत्री लालजी वर्मा ने कहा कि मामले की जसवंत नगर के प्रभारी निरीक्षक से जाँच कराई गई। एसएसपी पर आरोप सही नहीं पाए गए। सपा के आजम खाँ ने सरकार के बयान को अन्यायपूर्ण बताया। सपा सदस्य सरकार के रवैये के विरोध में बहिर्गमन कर गए।ड्ढr कांग्रेस केप्रमोद तिवारी ने शून्यकाल में औचित्य के प्रश्न के जरिए केन्द्र सरकार के बजट के विरोध में राज्य के सूचना विभाग द्वारा जारी किए गए विज्ञापन का सवाल उठाया और कहा कि सरकार का यह कार्य संविधान के विरोध में है। बहरहाल, अध्यक्ष सुखदेव राजभर ने उनकी सूचना को नामंजूर कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इटावा के एसएसपी को क्लीन चिट देने पर सपा का बहिर्गमन