अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोसी में आंधी ने मचायी तबाही

सोमवार की रात आयी तेज आंधी ने पूरे कोसी क्षेत्र में तबाही मचा दी। आंधी से सैकड़ों कच्चे घर गिर गये। वहीं गेहू, मकई व केला की फसलों को काफी नुकसान हुआ। कहीं-कहीं हल्की बारिश के साथ आेला गिरने की भी सूचना है। आम के मंजर को भी व्यापक क्षति पहुंची है। हालांकि आंधी से जानमाल की क्षति की कोई सूचना नहीं है।ड्ढr ड्ढr सहरसासुपौल से हि.टी. के अनुसार बीती रात सहरसा और सुपौल में आयी तेज आंधी और तूफान से फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। आंधी का असर सहरसा जिले में तो कम दिखा। वहीं सुपौल सहित प्रतापगंज क्षेत्र में इसका व्यापक असर दिखा। रात लगभग बजे आयी आंधी से सैकड़ों फूस के घर उजड़ गये और खेतों में लगी गेहूं और मकई की फसल के बर्बाद होने की खबर है। अधिकांश फसलें जमीन पर गिर गयी है। हालांकि इस आंधी में जानमाल के क्षति होने की सूचना नहीं मिली है।ड्ढr ड्ढr मधेपुरा से नि.सं. के अनुसार सोमवार की रात अचानक मौसम का रुख बदलने से जनजीवन प्रभावित हो गया। तेज आंधी के कारण बाजार मंे अफरातफरी मच गयी। आंधी की रफ्तार इतनी तेज थी कि कई घरों की छप्पर व चदरा उड़कर दूर चला गया। सिंहेश्वर में आंधी के कारण कई स्टॉलंे क्षति ग्रस्त हो गयी। बिजली पोल एवं पेड़ भी उखड़ गये।ड्ढr ड्ढr पूर्णिया से नि.सं. के अनुसार पूर्णिया में सोमवार की रात वर्षा एवं ओला के साथ आयी तूफान ने तबाही मचा दी। एक तरफ जहां फसलों का भारी नुकसान हुआ है वहीं कई फूस के घर धराशायी होकर रह गये हैं। अकेले बनमनखी के मोहनियां चकला गांव में एक दर्जन कच्ची घर गिर पड़े। जलालगढ़ में आलू की फसलों का भारी नुकसान हुआ है। अग्रिम आलू तो चौपट हुई ही, पछात खेती भी बर्बाद हो गयी हैं। इधर बीज गुणन प्रक्षेत्र खुश्कीबाग के प्रभारी पदाधिकारी शक्ित कुमार ने आलू की व्यापक क्षति की पुष्टि की है। जिले के पश्चिमी इलाके में मक्का, तम्बाकू और व्यवसायिक फसल केला भी ध्वस्त हो गया है। सिर्फ पूर्वी इलाके में लगी गरमा धान को राहत है। गेहूं की फसल तो फूल पर थी, उसमें दोनों के आने की संभावना नष्ट हो गयी है। किसान हाय मार रहे हैं।ड्ढr ड्ढr अररिया से ए.सं. के अनुसार जिले में सोमवार की रात लगभग पौने दस बजे अचानक आयी तेज आंधी व तूफान से सैकड़ों कच्चे मकान धराशायी हो गये। इस दौरान कई घरों के बनी टीन की छत भी उजड़ गये। लेकिन किसी के हताहत होने की सूचना नही है। वर्षा होने से जहां रबी की फसलों को क्षति पहुंची है वहीं गरमा धान को फायदा हुआ है। ड्ढr ड्ढr किशनगंज से नि.सं. के अनुसार सोमवार की रात्रि तेज आंधी के कहर ने जिले में सैकड़ों लोगों को बेघर बना दिया है। जिला मुख्यालय स्थित ग्रामीण क्षेत्रों में तेज आंधी के कारण बड़े बड़े पेड़ धराशायी हो गये हैं। लोगों के घर के टीना एवं फूस की झोपड़ियां उजड़ जाने से लोग बेघर हो गये हैं। तेज आंधी के कारण आम के मंजर, तंबाकू तथा गेहूं के फसल को भारी क्षति पहुंचने की सूचना है। जिला मुख्यालय स्थित धर्मगंज मझिया रोड में एक बड़ा पेड़ तार पर गिर जाने से आपूर्ति बाधित हो गयी है।ड्ढr ड्ढr कटिहार से हि.सं. के अनुसार सोमवार की रात्रि करीब पौने दस बजे आयी आंधी से कुछ देर के लिए जनजीवन थम सा गया। अपने दैनिक कार्यो से थक-हारकर लौटे लोगों को रास्ते में ही जहां-तहां शरण लेनी पड़ी। आंधी के साथ कहीं-कहीं हल्की बारिश के साथ ओला पड़ने की भी जानकारी मिली है। आंधी से आम के पेड़ों में लगे मंजर एवं केला की फसल को सर्वाधिक नुकसान पहुंचा है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कोसी में आंधी ने मचायी तबाही