अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सशर्त रिहाई ठुकराकर चौधरी फिर नजरबंद

पाकिस्तान के अपदस्थ मुख्य न्यायाधीश इफ्तिखार मुहम्मद चौधरी के सशर्त रिहाई की सरकार की पेशकश ठुकरा देने के बाद उनके घर पर एक बार फिर से ताला जड़ दिया गया है। जस्टिस चौधरी के परिजनों ने बताया कि गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने उन्हें बुलाकर कहा कि उनके परिवार को बाहर जाने की अनुमति है और मुख्य न्यायाधीश की भी रिहाई संभव है। लेकिन साथ में यह भी जोड़ दिया कि यदि वह अदालत में नहीं जाने की कसम लेते हैं तो यह अनुमति मिलेगी। परिजनों के मुताबिक अपदस्थ मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि वह सीधे उच्चतम न्यायालय जाकर सहयोगी न्यायाधीशों से मिलेंगे और तीन नवंबर के बाद लागू आपातकाल के लिए खिलाफ दायर ऐतजाज अहसान की याचिका पर सुनवाई के लिए पीठ का गठन करेंगे। जस्टिस चौधरी के प्रवक्ता अतहर मिनाल्ला ने कहा कि उन्होंने जस्टिस चौधरी की बेटी से बात की है जिसने बताया कि प्रशासन ने मुख्य न्यायाधीश के घर पर एक बार फिर से ताला जड़ दिया है और आवास के किनारे कंटीले तार की बाड़ लगा दी गई हैं। गौरतलब है कि अपदस्थ मुख्य न्यायाधीश की साली समीरा मैरी ने जस्टिस चौधरी से मुलाकात का प्रयास किया था लेकिन उन्हें रोक दिया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सशर्त रिहाई ठुकराकर चौधरी फिर नजरबंद