अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीमंेट पर बढ़ी डय़ूटी, घर महंगे होंगे

बजट में वित्त मंत्री पी.चिदम्बरम की तरफ से सीमेट पर एक्साइज डय़ूटी में इजाफा करने का असर रीयल एस्टेट सेक्टर पर होना तय माना जा रहा है। हालांकि बजट के आने से पहले तो उम्मीद जताई जा रही थी कि वित्त मंत्री होम लोन को भी सस्ता करने की बाबत कोई पहल करेंगे, उन्होंने ऐसा तो कुछ किया नहीं बल्कि सीमेट पर एक्साइज डय़ूटी को बढ़ाकर इस क्षेत्र पर करारी चोट ही पहुंचाई है। एचडीएफसी बैंक के जनरल मैनेजर (होम लोन) संजय जोशी मानते हैं कि बजट प्रस्तावों में प्रति टन सीमेंट पर 50 रुपये एक्साइज डय़ूटी को बढ़ाने के प्रस्ताव से घरों के दाम बढ़ सकते हैं। रीयल एस्टेट कंपनियां अपने ऊपर पड़ने वाली चोट को अपने ग्राहकों की जेबों से ही निकालेंगी। हालांकि विशेषज्ञ अभी तो माथापच्ची करने में ही लगे हुए हैं कि प्रति टन सीमेंट पर 50 रुपये एक्साइज डय़ूटी को बढ़ाने के कारण घरों के दाम कितने बढ़ सकते हैं आने वाले दिनों में, पर इतना तय है कि कीमतों तो बढ़ेंगी ही। रीयल एस्टेट बिरादरी को अब लगता है कि अब वित्त मंत्री के पास एक ही विकल्प बचा है कि वे बैंकों को सलाह दें कि वे अपने होम लोन को और सस्ता करें। अगर यह 8 प्रतिशत के आसपास हो जाता है तो भी बाजार प्रभावित नहीं होगा। पूर्वाचल कंस्ट्रक्शन कंपनी के एमडी शाह आलम ने कहा कि हाल के दिनों में बैंकों के अपने होम लोन को कुछ सस्ता करने के चलते बाजार में फिर से हलचल देखी जा रही है। जाहिर है कि अगर सीमेट पर बढ़ाई गई एक्साइज डय़ूटी को वापिस न लिया गया तो इसका असर रीयल एस्टेट और सभी निर्माण परियोजनाओं पर पड़ेगा। उनमें जवाहर लाल नेहरू शहरी नवीकरण परियोजना भी है। एलआईसी होम फाइनेंस के एक अधिकारी ने कहा कि हाल के दौर में होम लोन के कुछ सस्ता होने के चलते सभी बैंकों और एलआईसी के पास भी सम्भावित घर लेने वालों की तरफ से लोन संबंधी जानकारियां मांगी जाने लगी हैं। बाजार में इसका सकारात्मक प्रभाव दिख रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सीमंेट पर बढ़ी डय़ूटी, घर महंगे होंगे