अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीसीएल के रवैये से खफा एनसीआेइए करेगा आंदोलन

सीसीएल के रवैये से एनसीआेइए खफा है। महासचिव मिहिर चौधरी का कहना है कि प्रबंधन सिर्फ आश्वासन दे रहा है। कामगारों की समस्या के समाधान के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है। पेंशन मद में राशि कटौती का मामला डीएफ डॉ एके सरकार एवं पूर्व डीपी अजय कुमार के समक्ष उठाया गया था। उन्हें बताया गया था कि इसमें कामगारों की गलती नहीं है। वे छठे वेतन समझौते के एरियर से पूरी राशि कटा चुके हैं। बावजूद इसके राशि बची रह गयी। अधिकारियों ने आश्वासन दिया था कि यह राशि प्रबंधन देगा।ड्ढr दो साल बीत जाने पर भी राशि जमा नहीं करायी गयी है। मैनपावर बजट हमेशा मार्च के बाद लैप्स कर जायेगा।ड्ढr वर्तमान डीपी टीके चांद ने आश्वास्त किया था कि इसकी वैलिडिटी की अवधि बढ़ा दी जायेगी। इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि प्रोन्नति की भी वही स्थिति है। एक पद पर कामगार 15 से 20 वर्ष से कार्यरत हैं। उन्हें प्रोन्नति नहीं दी जा रही है। आेवरटाइम के भुगतान में भी भेदभाव बरता जा रहा है। इसके संशोधन का मामला भी डीपी के समक्ष उठाया गया था। सुधार का आश्वासन मिला था। उन्होंने कहा कि शीघ्र समाधान नहीं हुआ तो यूनियन आंदोलन के लिए बाध्य होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सीसीएल के रवैये से खफा एनसीआेइए करेगा आंदोलन