अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मायावती छात्र शक्ित के आगे झुकीं:अखिलेश

समाजवादी पार्टी के सांसद प पार्टी के युवा प्रकोष्ठों के राष्ट्रीय प्रभारी अखिलेश यादव ने कहा है कि मुख्यमंत्री मायावती को छात्र शक्ित के आगे अंतत: झुकना पड़ा। छात्र संघ चुनावों पर रोक लगाने व चुनावों की माँग करने वालों को कुचल देने का उनका ऐलान सपा के नेतृत्व में चले छात्रों के आंदोलन के आगे टिक नहीं पाया। उन्हें छात्र संघ चुनाव बहाल करना ही पड़ा। ‘हिन्दुस्तान’ से बातचीत में श्री यादव ने कहा कि आंदोलन के कारण मुख्यमंत्री को यह सोचने पर विवश होना पड़ा कि छात्र उनकी सरकार से एकदम अलग-थलग पड़ जाएँगे। श्री यादव ने कहा कि हमारा आंदोलन यहीं नहीं थमेगा। फर्जी मुकदमों को वापस लिए जाने व पुलिस फायिरग में छात्र की मौत पर आंदोलन जारी रहेगा। छात्रों व उनके परिजनों को फायिरग, लाठीचार्ज और फर्जी मुकदमों से हुए मानसिक उत्पीड़न की सरकार भरपाई तो कर ही नहीं सकती लेकिन फर्जी मकदमे वापस लेने होंगे।ड्ढr इधर सपा के वरिष्ठ नेता व विधान परिषद मंे नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन, सपा छात्रसभा के प्रदेश अध्यक्ष सुनील सिंह यादव व लोहिया वाहिनी के आनंद भदौरिया ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि छात्र संघों की बहाली से सपा की जीत हुई है। सपा नेताओं ने कहा कि छात्र आन्दोलन के दौरान छात्रों के खिलाफ फर्जी मुकदमें दर्ज करा दिए गए ताकि सपा से जुड़े छात्र चुनाव न लड़ सकें। समाजवादी छात्र सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजपाल कश्यप ने कहा है कि छात्र संघ बहाली सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव की नीतियों व उनके मार्गदर्शन में चले छात्रों की जीत है। प्रतिबंध हटने का स्वागतड्ढr राज्य मुख्यालय (प्रसं)। छात्रसंघ चुनाव से प्रतिबंध हटाने के फैसले का उच्च शिक्षा मंत्री, कांग्रेस व छात्र नेताआें ने स्वागत किया है। मंत्री राकेश धर त्रिपाठी ने कहा है कि शिक्षा के मंदिरों से अराजक तत्वों को बाहर करने के बाद छात्र संघ चुनाव की बहाली हुई है। शिक्षा सत्र 2008-200में छात्रसंघ चुनाव निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार होंगे। इस फैसले के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री मायावती को बधाई दी। कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता प्रमोद तिवारी ने इसे लोकतंत्र की विजय बताया है। लविवि छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष व कांग्रेस प्रवक्ता रामकुमार भार्गव व रमेश श्रीवास्तव ने कहा कि मायावती सरकार द्वारा छात्रसंघ चुनाव पर प्रतिबंध लगाने का कोई औचित्य नहीं था। इस निर्णय का कांग्रेस ने विरोध किया था। लविवि छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष शैलेष कुमार सिंह शैलू ने कहा कि छात्रसंघ चुनाव राजनीति की पहली पाठशाला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मायावती छात्र शक्ित के आगे झुकीं:अखिलेश