अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सभी मंडल और जिला जेलों में खुलेंगे स्कूल

राज्य के सभी जेलों में स्कूल खोले जायेंगे। कैदियों को शिक्षित करने का अभियान तेजी से चल रहा है। राज्य के तीन केंद्रीय काराआें में 12वीं कक्षा तक की पढ़ाई की जायेगी। वहीं मंडल और जिला जेल में दसवीं कक्षा तक की पढ़ाई होगी। इसी स्तर का स्कूल केंद्रीय और जिला जेलों में खोलने की योजना है। झारखंड के तीन केंद्रीय कारा सहित 27 जेलों में 45 हजार बंदी हैं। इनमें से दस हजार ऐसे बंदी हैं, जो पढ़ाई शुरू करने के क्रम में ही जेल में आ गये और उनकी पढ़ाई छूट गयी। लेकिन ऐसे कैदियों को अब पढ़ने का मौका दिया जायेगा। साथ ही महिला बंदियों और उनके बच्चों को शिक्षा से वंचित नहीं रहने दिया जायेगा।ड्ढr आंकड़ों के अनुसार 45 हजार बंदियांे में से दस हजार कैदी दसवीं कक्षा पास हैं, जबकि दो हजार दसवीं कक्षा पास नहीं कर सके हैं। इनमें से कई कैदियों का ऐसा भी मामला सामने आया है, जो आर्थिक स्थिति दयनीय होने के कारण पढ़ाई नहीं कर सके और गलत संगत में पड़ गये। बाद में उन्हें जेल जाना पड़ा।ड्ढr कारा आइजी सुनील कुमार वर्णवाल ने बताया कि कैदियों को शिक्षित करने की प्रक्रिया शीघ्र ही प्रारंभ की जायेगी। इन सभी कैदियों के लिए पुस्तक का प्रबंध किया जायेगा। अनौपचारिक स्कूल में पढ़ाई के बाद आेपन स्कूल से उन्हें वार्षिक परीक्षा में शामिल कराया जायेगा। कारा आइजी बताते हैं कि कैदियों को शिक्षा मिलेगी, तो जेल में रहने या बाहर निकलने पर कोई भी उन्हें गलत काम के लिए प्रेरित नहीं करेगा। शिक्षित होने के बाद वह जेल से बाहर निकलेंगे, तो अपने पैरों पर खड़ा भी हो सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सभी मंडल और जिला जेलों में खुलेंगे स्कूल