DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनाव के बाद होल्िंडग टैक्स में होगी वृद्धि

रांची नगर निगम के होल्डिंग टैक्स का पुनरीक्षण पिछले दस साल से नहीं हुआ है। नगर निगम एक्ट के मुताबिक हर पांच साल में टैक्स का पुनरीक्षण होना है। वर्तमान में 1में पुनरीक्षित टैक्स ही लागू है। पिछले लेकिन अब टैक्स बढ़ाने का जोखिम नव निर्वाचित पार्षदों को ही उठाना पड़ेगा। ऐसे में उन्हें जनता के विरोध का भी सामना करना पड़ सकता है।ड्ढr जानकारों का कहना है कि जन विरोध के बावजूद टैक्स में वृ िकरना नव निर्वाचित पार्षदों की मजबूरी होगी। संविधान के 74वें संशोधन के अनुसार स्थानीय निकायों को स्वावलंबी बनना होगा। इसके लिए उसे अपने आय के स्रेत में वृ िकरनी होगी। रांची नगर निगम के आय का प्रमुख जरिया होल्डिंग टैक्स है। होल्डिंग और अन्य स्रेतों से निगम की वर्तमान वार्षिक आय करीब दस करोड़ है। 55 पार्षदों, मेयर और उप मेयर को प्रति महीना एक हजार रुपये मानदेय का भुगतान किया जायेगा। मेयर को वाहन सहित अन्य सुविधाएं उपलब्ध करायी जायेंगी। इससे निगम के खर्च में भी वृ िहोगी।ड्ढr चुनाव के बाद बुनियादी समस्याआें का समाधान करना नव गठित बोर्ड की पहली प्राथमिकता होगी। समस्याआें के समाधान के लिए तब राशि की जरूरत भी पड़ेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चुनाव के बाद होल्िंडग टैक्स में होगी वृद्धि