DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वास्थ्य केन्द्र पर कर्मियों ने ताला जड़ा

बुधवार को स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में स्वास्थ्यकर्मियों के एक गुट द्वारा जबरन तालाबंद किए जाने के विरुद्ध स्थानीय लोगों का गुस्सा चरम पर पहुंच गया परन्तु सृूचना मिलने के बाद स्थानीय पुलिस के पहुंचते ही तालाबंदी कर स्वास्थ्य सेवाओं को बाधित करने वाले स्वास्थ्य कर्मी भाग खड़े हुए। जिससे कोई घटना होते-होते टल गयी। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा. लीला सिंह ने इस मामले को लेकर एक चिकित्सक समेत एक दर्जन स्वास्थ्यकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की अनुशंसा की है।ड्ढr ड्ढr स्वास्थ्य कर्मियों के व्यवहार से क्षेत्रीय लोगों में रोष है। अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा. लीला सिंह ने बताया कि प्रखंड के विभिन्न स्वास्थ्य केन्द्रों व यहां के अस्पताल में कार्यरत झूलन शर्मा, उदय कुमार उपाध्याय, श्रवण कुमार, ओम प्रकाश, एएनएम रंजू कुमार, बसंती, शांति, रेणु, उमा, ललिता, आदि के खिलाफ जब उन्होंने कर्तव्य में लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए उच्चाधिकारियों के यहां शिकायत की तो दबाव बनाने के लिए इस तरह का नाटक रचा गया। इस प्रकरण में स्थानीय चिकित्सक डा. बीके झा भी संलिप्त है। डा. सिंह के अनुसार, उपरोक्त एएनएम की प्रतिनियुक्ित मुस्कान कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु जमुई, कनपा, बेनी बिगहा, दिहुली, सोरमपुर आदि गांवों में स्वास्थ्य केन्द्रों पर दिसंबर माह में ही की गई थी, परन्तु किसी ने प्रभार नहीं लिया।ड्ढr ड्ढr वे लोग दो माह से कार्य नहीं कर रहे हैं। दूसरी ओर सम्बन्धित स्वास्थ्यकर्मियों व नसरे का कहना है कि डा. लीला सिंह की मनमानी व तानाशाही रवैये से वे लोग त्रस्त हैं। वे लोग उनके खिलाफ आन्दोलन चला रहे हैं। अस्पताल में तालाबंदी से सैकड़ों मरीजों का इलाज नहीं हो सका।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्वास्थ्य केन्द्र पर कर्मियों ने ताला जड़ा