अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोयला जगत की खबरें

उपभोक्ताआें को दी गयी इ-पेमेंट की जानकारी रांची सीसीएल दरभंगा हाउस में गुरुवार को कोयला उपभोक्ता जागरूकता बैठक हुई। इसमें उन्हें इ-पेमेंट और इ-रिफंड के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी। डीएफ डॉ एके सरकार ने कहा कि ग्राहक संतुष्टि हमारी पहली प्राथमिकता है। रिफंड और पेमेंट में आ रही दिक्कत को दूर करने के लिए नयी व्यवस्था शुरू की जा रही है। ग्राहकों की संतुष्टि के लिए आपसी विचार-विमर्श कर और बेहतर बनाया जायेगा। हर काम में पारदर्शिता लाने का प्रयास किया जायेगा। सीवीआे आलोक सिंह ने कहा कि किसी भी पद्धति को शुरू करने में पहले थोड़ी दिक्कत होती है। आनेवाले दिनों में यह फूलप्रूफ और अनिवार्य भी होगा। इससे उपभोक्ताआें में शिकायत की गुंजाइश नहीं रहेगी। प्रबंधन उनकी हर समस्या का समाधान करने के लिए प्रयासरत है। जीएम (एसएंडएम) वीबी सहाय ने नयी पद्धति के बारे में विस्तार से जानकारी दी। आलोक वर्मा ने धन्यवाद ज्ञापन किया। कोल इंडिया बोर्ड में डीए मर्जर का प्रस्ताव जायेगा कोलकाता में आठ मार्च को होनेवाली कोल इंडिया बोर्ड की बैठक में अधिकारियों के 50 फीसदी डीए मर्जर का प्रस्ताव जायेगा। इसे स्वीकृति भी मिल जाने की उम्मीद है। कैबिनेट की स्वीकृति के बाद गत 26 फरवरी को डिपार्टमेंट ऑफ पब्लिक इंटरप्राइजेज ने इस संबंध में अधिसूचना जारी की थी। इसमें कई शर्त भी है। उसके मुताबिक कंपनियों को अपने बोर्ड से इस प्रस्ताव को पास कर संबंधित मंत्रालय से स्वीकृति लेनी होगी। उसके बाद ही इसे लागू किया जा सकता है। इसका लाभ फायदेवाली कंपनियों के अधिकारियों को ही मिलेगा। यह जनवरी 2007 से लागू होना है। बताया जाता है कि टीएडीए की विसंगति दूर करने का प्रस्ताव भी बोर्ड में जायेगा। सनद रहे कि सीएमआेएआइ के केंद्रीय महासचिव केपी सिंह ने कोल इंडिया अध्यक्ष पार्थ भट्टाचार्य को पत्र लिख कर इन मामलों को शीघ्र बोर्ड में ले जाने का आग्रह किया था। उन्होंने कोयला उद्योग की स्थिति के मद्देनजर अधिकारियों को बेहतर पे स्केल देने की बात भी कही है।ड्ढr महिला आश्रितों की परेशानी समझें : यूनियनड्ढr रांची। द झारखंड कोलियरी मजदूर यूनियन का कहना है कि सीसीएल प्रबंधन से महिला आश्रितों की दिक्कत समझे। महासचिव सनत मुखर्जी ने कहा कि जेसीसी की बैठक में यह निर्णय हुआ था कि महिला अश्रितों को नियुक्ित के बाद उनकी पति के कार्य क्षेत्र में ही पदस्थापित किया जायेगा। इसकी अनदेखी कर अधिसंख्य को मुख्यालय में पदस्थापित किया जा रहा है। पदस्थापन के बाद उन्हें यहां क्वार्टर भी उपलब्ध नहीं कराया गया है। अलग से उनके लिए हॉस्टल भी नहीं बना हुआ है। नतीजतन जहां वह पहले से रह रही है, वहीं से प्रतिदिन आना जाना कर रही है। आश्रितों को सहयोग राशि दी सीएमआेएआइ ने रांची। सेल्फ सपोर्ट स्कीम के तहत सीएमपीडीआइ सीएमआेएआइ ने पूर्व जनसंपर्क प्रबंधक रवींद्र कुमार सिंह की पुत्री जयंती सिंह एवं अपराजिता को सहयोग राशि दी। सीएमडी एके सिंह ने छह मार्च को 2.75 लाख रुपये का चेक उन्हें सौंपा। इस मौके पर उन्होंने कहा कि असामयिक मृत्यु होने पर परिजनों को आर्थिक सहायता कर हम उनके सुख-दुख में सहभागी बनते हैं। यह एक परिवार होने का अहसास कराता है। संगठन यह काम पूरी तन्मयता के साथ कर रहा है। एसोसिएशन के अध्यक्ष केपी सिंह ने कहा कि अभी इस स्कीम के सदस्य 551 अधिकारी हैं। आनेवाले दिनों में इसकी संख्या बढ़ेगी। महासचिव एसके जायसवाल ने स्वागत एवं उपाध्यक्ष आशीष कुमार शाहदेव ने धन्यवाद दिया।ड्ढr सीसीएल का पीट हेड स्टॉक आठ एमटी हुआड्ढr रांची। सीसीएल का पीट हेड स्टॉक पांच मार्च 08 तक 8.3 मिलियन टन हो गया। गत वर्ष 31 मार्च 07 तक स्टॉक करीब 10.5 एमटी था। आने वाले दिनों में स्टॉक में वृद्धि होने की उम्मीद है। अब तक करीब 36 एमटी उत्पादन हो चुका है। यह गत वर्ष से 1.एमटी अधिक है। जानकारी के मुताबिक 38.3 एमटी कोयले का प्रेषण हुआ है। यह पिछले वर्ष की तुलना में 3.3 एमटी अधिक है। अधिकारियों के अनुसार प्रतिदिन 30 से 35 रैक कोयला भेजा जा रहा है। शुरू से ही प्रबंधन ने रणनीति के तहत उत्पादन के साथ-साथ प्रेषण पर भी ध्यान दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कोयला जगत की खबरें